ज्‍यादा उपज और बेहद कम पराली वाली धान की नई variety तैयार

लुधियाना। पंजाब कृषि विश्वविद्यालय लुधियाना के वैज्ञानिकों ने धान की ऐसी variety तैयार की है जिनसे उपज भी अब से कहीं ज्‍यादा मिलेगी और पराली बेहद कम निकलेगी जिससे किसान को तो लाभ होगा ही पर्यावारण भी प्रदूषित होने से बच जाएगा।

अब धान की फसल हर करेगी पराली की समस्‍या का समाधान। किसान धान की नई variety को अपनाकर पराली की समस्‍या का समाधान आसानी से पा सकते हैं। इन variety को ईजाद किया है पंजाब कृषि विश्वविद्यालय (पीएयू) ने। पंजाब में पराली का समाधान ढूंढने को लेकर हर स्तर पर कोशिशें हो रही हैं। पीयूए ने धान की एेसी नई किस्‍में ईजाद की हैं जिनसे ऊपज अधिक प्राप्‍त होगी और पराली बहुत कम होगी।

पीआर variety जल्दी पककर होती हैं तैयार व पराली भी कम

पीएयू पराली के प्रबंधन को लेकर अलग-अलग तरह के प्रयास कर रहा है। वह पराली को खेतों में खपाने को लेकर आधुनिक मशीनरी बनाने पर जोर दे रही है, वहीं धान की ऐसी किस्में भी ईजाद कर रही है, जो अधिक उत्पादन के साथ पराली कम पैदा करें। विश्‍वविद्यालय के कृषि वैज्ञानिकों का कहना है कि इन किस्मों का जहां हारवेस्ट इंडेक्स अधिक है, वहीं पराली की मात्रा कम है। इससे पराली संभालना आसान हो जाता है।

कृषि विशेषज्ञों के अनुसार, पीआर किस्मों में परमल धान का कद दूसरी ट्रेडिशनल किस्मों की तुलना में कम है। माहिरों के अनुसार पीआर धान की कई किस्मों का कद औसतन 95 से 100 सेंटीमीटर के बीच है। नहीं पूसा 44 वैरायटी के धान की हाइट करीब 122 सेंटीमीटर के है। कद कम होने से पराली ज्यादा नहीं बनती।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »