पाकिस्तान के क्वेटा में पोलियो दवा पिलाने वाली दो महिलाओं की हत्‍या

दक्षिण-पश्चिम पाकिस्तान के शहर क्वेटा में पोलियो की दवा पिलाने वाली दो महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या कर दी गई है.
सकीना बीबी (38) और उनकी बेटी रिज़वाना (16) पर मोटरसाइकिल सवार बंदूकधारियों ने उस वक्त हमला किया जब वे बच्चों को पोलियो की खुराक दे रहीं थीं.
अभी तक किसी गुट ने इस हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली है.
हालाँकि पाकिस्तान में पहले भी इस्लामिक चरमपंथी पोलियो की दवा पिलाने वाली टीमों को निशाना बनाते रहे हैं और वे इसे पश्चिम देशों के षडयंत्र के तौर पर देखते हैं.
इन चरमपंथी गुटों का आरोप है कि पोलियो की खुराक का ये अभियान मुसलमानों को नपुंसक बनाने की पश्चिमी देशों की साजिश है.
पुलिस का कहना है कि पोलियो की दवा पिलाने वाली टीम को सुरक्षा मुहैया नहीं कराई गई थी, क्योंकि पहले देखा गया था कि पुलिस की मौजूदगी से उनके काम में खलल पड़ता है.
पुलिस अधिकारी नसीबुल्लाह ख़ान ने कहा है कि मारी गईं महिला स्वास्थ्यकर्ता बलूचिस्तान प्रांत में चल रहे पोलियो उन्मूलन अभियान का हिस्सा थीं. उन्होंने कहा, “अस्पताल ले जाते समय उनकी मौत हो गई.”
बलूचिस्तान के मुख्यमंत्री मीर अब्दुल कुदुस बिज़ेन्जो ने हमले की निंदा की है और इसे “कायरतापूर्ण और आतंकवादी” कार्रवाई बताया है.
उन्होंने कहा, “लोगों की सेवा कर रहे लोगों पर हमला मानवता पर हमला है.”
विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, पाकिस्तान उन तीन देशों में शामिल है जहाँ चरमपंथियों के प्रतिरोध के कारण पोलियो उन्मूलन अभियान कामयाब नहीं हो सका है. अन्य दो देशों में नाइजीरिया और अफ़ग़ानिस्तान शामिल हैं.
-BBC