Jayalalithaa के अस्पताल में भर्ती के दौरान पुलिस ने बंद कराए थे CCTV कैमरे: अपोलो हॉस्पिटल

नई दिल्‍ली। तमिलनाडु की पूर्व मुख्य मंत्री Jayalalithaa की मौत की जांच कर रहे अरुमुगास्वामी कमीशन को अपोलो हॉस्पिटल के मैनेजमेंट ने बताया कि आईजी केएन सथियामुर्ति उन चार पुलिस अधिकारियों में शामिल थे, जिन्होंने Jayalalithaa के अस्पताल में भर्ती के दौरान सीसीटीवी कैमरों को बंद करने का अनुरोध किया था।

अपोलो हॉस्पिटल के मैनेजमेंट ने बताया कि आईजी केएन सथियामुर्ति उन चार पुलिस अधिकारियों में शामिल थे, जिन्होंने Jayalalithaa के अस्पताल में भर्ती के दौरान सीसीटीवी कैमरों को बंद करने का अनुरोध किया था।

अपोलो हॉस्पिटल द्वारा दाखिल किए गए पांच पेज के हलफनामे में कहा गया है, ‘तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता को उनके कमरे से ले जाने और उन्हें वापस कमरे में लाने के दौरान, गलियारे के सीसीटीवी कैमरे को बंद कर दिया जाता था।’

Jayalalithaa की मौत पर उठे थे सवाल
अपोलो हॉस्पिटल ने बताया कि जयललिता को जब भी कमरे से बाहर लाया जाता था तब गलियारे के सीसीटीवी कैमरे को बंद कर दिया जाता था। अस्पताल प्रशासन का कहना है कि उसने ऐसा पुलिस प्रशासन के कहने पर किया।

अरुमुगास्वामी कमीशन को दिए हलफनामे में अस्पताल प्रशासन ने बताया कि चार पुलिस वालों, जिसमें आईजी (इंटेलीजेंस) केएन सथियामुर्ति शामिल थे, उन्होंने सीसीटीवी कैमरे को बंद करने का अनुरोध किया था। जयललिता जब यहां भर्ती थीं, उस दौरान सीसीटीवी फुटेज नहीं होने के कारण कई सवाल उठ रहे हैं और कुछ लोगों का आरोप है कि जयललिता की षडयंत्र के तहत हत्या की गई। इसकी जांच के लिए अपोलो अस्पताल के कई डॉक्टरों से पूछताछ की गई है। जयललिता की मृत्यु पांच दिसंबर 2016 को हुई थी।

वो अस्पताल में करीब 75 दिन भर्ती रहीं। इलाज पर सवाल उठाने के बाद राज्य सरकार ने सितंबर 2017 में एक जांच आयोग का गठन किया। जांय आयोग को ये पता लगाना है कि जयललिता को किन परिस्थितियों में अस्पताल में भर्ती किया गया और उनकी मौत तक यहां क्या इलाज चला।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »