पहले ऑडिट दिवस पर पीएम ने कहा, CAG एक विरासत है और इसे संजोना चाहिए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को दिल्ली में भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक CAG के कार्यालय में सरदार वल्लभभाई पटेल की मूर्ति का अनावरण किया. आज ही के दिन को पहले ऑडिट दिवस के तौर पर मनाया जा रहा है.
भारत के CAG जीसी मुर्मू ने कहा कि ‘हमने इस दिन को पहले ऑडिट दिवस के लिए इसलिए चुना है क्योंकि भारत सरकार के क़ानून 1858 के तहत बंगाल, मद्रास और बॉम्बे प्रांतों के ऑडिट विभाग को एक किया गया था और 16 नवंबर 1860 को पहले ऑडिटर जनरल ने कार्यभार संभाला था.’
इस मौक़े पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ‘कुछ ही संस्थान हैं जो समय के साथ मज़बूत, अधिक प्रासंगिक और अधिक परिपक्व हुए हैं. कुछ दशकों में कुछ संस्थान अपनी उपयोगिता खो चुके हैं लेकिन CAG एक विरासत है और हर पीढ़ी को इसे संजोना चाहिए. यह एक बड़ी ज़िम्मेदारी है.’
उन्होंने कहा कि ‘एक समय था जब ऑडिट को शक़ और डर की निगाह से देखा जाता था. CAG बनाम सरकार हमारे सिस्टम का कॉमन माइंडसेट था. कई बार अधिकारी सोचते थे कि CAG हर किसी में कमियां ढूंढती हैलेकिन आज माइंडसेट बदल चुका है.’
पीएम मोदी ने कहा कि ‘देश के बैंकिग सेक्टर में पारदर्शिता न होने के कारण कई तरीके अपनाए जाते थे. परिणामस्वरूप बैंक के एनपीए लगातार बढ़ते रहते थे. आप जानते हैं कि NPA साफ़ करने के लिए कार्पेट के नीचे से पहले क्या होता था.’
‘लेकिन हमने पिछली सरकारों की हकीकत सामने लाई और असली स्थिति को ईमानदारी से राष्ट्र के आगे बताया. हम समाधान ढूंढने में तब सफल रहते हैं अगर हम समस्या को पहचान लेते हैं.’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *