कोरोना वायरस को लेकर पीएम मोदी की अपील, हमें अफवाहों से भी बचना है

नई दिल्‍ली। चीन में महामारी बन चुके कोरोना वायरस का कहर दुनिया के कई और देशों में भी देशों में भी देखने को मिल रहा है। भारत में भी कोरोना के कई मामले सामने आ चुके हैं। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस को लेकर नागरिकों से खास अपील की। उन्होंने कहा कि ऐसे समय में अफवाहें भी तेज़ी से फैलती हैं। कोई कहता है ये नहीं खाना है, वो नहीं करना है, कुछ लोग चार नई चीजें लेकर आ जाएंगे कि ये खाने से कोरोना वायरस से बचा जा सकता है। हमें इन अफवाहों से भी बचना है। जो भी करें, अपने डॉक्टर की सलाह से करें।
जनऔषधि योजना के लाभार्थियों को पीएम मोदी ने किया संबोधित
जनऔषधि दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनऔषधि योजना के लाभार्थियों को संबोधित किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस से बचाव को लेकर कई अहम बातें बताईं। उन्होंने कहा कि अगर कोई इससे संक्रमित होता है तो परिवार में जो भी लोग होते हैं उनको भी इन्फेक्शन की आशंका ज्यादा होती है, ऐसे में उनको भी जरूरी टेस्ट करा लेने चाहिए। ऐसे साथियों को मास्क भी पहनने चाहिए, ग्लब्स भी पहनने चाहिए और दूसरों से कुछ दूरी बनाकर रहना चाहिए।
पीएम मोदी ने आगे कहा, ‘पूरी दुनिया नमस्ते की आदत डाल रही है। अगर किसी कारण से हमने ये आदत छोड़ दी है तो हाथ मिलाने के बजाय इस आदत को फिर से डालने का भी ये उचित समय है।’
प्रधानमंत्री ने कहा कि जनऔषधि दिवस सिर्फ एक योजना को सेलिब्रेट करने का दिन नहीं है, बल्कि उन करोड़ों भारतीयों, लाखों परिवारों के साथ जुड़ने का दिन है, जिनको इस योजना से बहुत राहत मिली है। हर भारतवासी के स्वास्थ्य के लिए हम 4 सूत्रों पर काम कर रहे हैं। ये देश के हर व्यक्ति तक सस्ता और उत्तम इलाज पहुंचाने का संकल्प है। मुझे बहुत संतोष है कि अब तक 6 हजार से अधिक जनऔषधि केंद्र पूरे देश में खुल चुके हैं। जेनरिक दवाओं को लेकर अफवाहें फैलाएं जाती हैं। पुराने अनुभवों के आधार पर कुछ लोगों को ये भी लगता है कि आखिर इतनी सस्ती दवा कैसे हो सकती है, कहीं कोई खोट तो इसमें नहीं है।
‘पूरी दुनिया नमस्ते की आदत डाल रही है’
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी बात की शुरुआत करते हुए कहा कि आप सभी को दूसरे जनऔषधि दिवस की बहुत-बहुत बधाई। आज हफ्तेभर से मनाए जा रहे जनऔषधि सप्ताह का भी आखिरी दिन है। इस प्रशंसनीय पहल के लिए भी बहुत-बहुत अभिनंदन। उन्होंने आगे कहा, मुझे बताया गया है कि अभी तक पूरे देश में करोड़ों गरीब और मध्यम वर्ग के साथियों को 2000-2500 करोड़ रुपये की बचत जनऔषधि केंद्रों के कारण हुई है। आप सभी प्रशंसनीय काम कर रहे हैं। आपके इस काम को पहचान दिलाने के लिए सरकार ने इस योजना से जुड़े पुरस्कारों की शुरुआत करने का भी फैसला लिया है।
जेनरिक दवाओं को लेकर अफवाहें फैलाएं जाती हैं: पीएम मोदी
पीएम मोदी ने कहा, ‘जैसे-जैसे ये नेटवर्क बढ़ रहा है, वैसे ही इसका लाभ भी अधिक से अधिक लोगों तक पहुंच रहा है। आज हर महीने 1 करोड़ से अधिक परिवार इन जन औषधि केंद्रों के माध्यम से बहुत सस्ती दवाइयां ले रहे हैं।
हर महीने 1 करोड़ से अधिक परिवारों को इन जनऔषधि केंद्रों से सस्ती दवाओं का लाभ मिल रहा है। देश भर में किसी भी बाजार में उपलब्ध समान दवाओं की तुलना में जनऔषधि केंद्रों पर उपलब्ध दवाएं 50 से 90 फीसदी कम हैं।
महिला ने कहा, मैंने ईश्‍वर को तो नहीं देखा लेकिन आपको देखा है
मैंने ईश्वर को तो नहीं देखा, लेकिन मोदी जी मैंने आपको देखा है…एक महिला की यह बात सुनकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भावुक हो गए। यह मौका था जन औषधि दिवस पर हुए कार्यक्रम का था।
कार्यक्रम में लकवे से पीड़ित महिला ने कहा कि जन औषधि दवाइयों की वजह से उनकी स्थिति सुधर रही है और खर्च भी कम हुआ है।
कार्यक्रम में दीपा शाह ने यह बात कही। वह बोलीं, ‘2011 में मुझे लकवा हुआ था, मैं बोल नहीं पाती थी। इलाज जो चल रहा था काफी महंगा था, जिसकी वजह से घर चलाना तक मुश्किल हो गया था। फिर जन औषधि (जेनरिक) दवाएं लेना शुरू किया। जिससे पैसा बचा। पहले दवाइयां 5 हजार की आती थीं, अब 1500 की आती हैं। बाकी बचे पैसों से मैं घर चलाती हूं, फल खाती हूं।’ महिला ने आगो कहा कि मैंने ईश्वर को नहीं देखा लेकिन ईश्वर के रूप में मोदी को देखा है। इस पर महिला रोने लगी। वहीं मोदी भी भावुक हो गए।
इसके बाद मोदी ने दीपा को संबोधित करते हुए कहा, आपने बीमारी को हराया है। आपका हौसला सबसे बड़ा भगवान है। वही आपका भगवान है। उसी वजह से आप उस संकट से बाहर निकल पाईं।
इसके बाद मोदी ने जेनरिक दवाओं की तारीफ की। उन्होंने कहा कि इन दवाओं से दीपा ठीक हुईं, यह सबूत है कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में मौजूद किसी दवा से ये दवाएं कम नहीं हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *