‘रामायण’ के जरिए पीएम मोदी ने नेपाल को भारत से रिश्‍तों की अहमियत बताई

जनकपुर। पीएम नरेंद्र मोदी नेपाल की अपनी दो दिन की यात्रा पर शुक्रवार सुबह ‘सीता के मायके’ जनकपुर पहुंचे। दोनों देशों के रिश्तों में ‘रामायण कनेक्शन’ के जरिए गर्मजोशी भरने की पहल मानी जा रही इस यात्रा की शुरुआत मोदी ने ऐतिहासिक जानकी मंदिर से की। इस दौरान वह पूरी तरह से राम-सीता के रंग में रंगे नजर आए। सिर पर मिथिला में प्रचलित पाग पहना, तो मंजीरे के साथ सीता-राम का जाप भी किया। इसके साथ ही विशेष पूजा-अर्चना भी की। मोदी ने कहा कि यह उनका सौभाग्य है कि उन्हें एकादशी के मौके पर जनकपुर आने का सौभाग्य मिला।
जानकी मंदिर में PM ओली ने की अगवानी
मोदी के नेपाल पहुंचने पर रक्षा मंत्री ईश्वर पोखरेल और प्रांत-2 के मुख्यमंत्री लालबाबू राउत ने हवाईअड्डे पर पहुंचकर उनका गर्मजोशी से स्वागत किया। पीएम मोदी इसके बाद सीधे ऐतिहासिक राम जानकी मंदिर पहुंचे।
नेपाल के तीसरे दौरे पर गए मोदी का स्वागत करने के लिए प्रधानमंत्री केपी ओली खुद मौजूद थे। ओली जानकी मंदिर में मोदी के साथ रहे और मंदिर के धार्मिक महत्व के बारे में जानकारी दी।
‘अयोध्या-जनकपुर का अटूट नाता’
पीएम मोदी ने कहा, ‘सदियों से अयोध्या और जनकपुर का नाता अटूट है।’ पीएम ने कहा कि भारत और नेपाल, दोनों देशों के बीच रामायण सर्किट बनाने की दिशा में काम करेंगे। उन्होंने कहा कि रामायण सर्किट भारत-नेपाल दोनों के लिए अहम है और इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नेपाली समकक्ष केपी ओली संग जनकपुर को अयोध्या से जोड़ने वाली बस सेवा को भी हरी झंडी दिखाई। बता दें कि रामायण सर्किट योजना के तहत नेपाल के जनकपुर से मिथिला और अवध की सांस्कृतिक धरोहरों को जोड़ने का कार्यक्रम शुरू किया जाएगा।
धार्मिक दृष्टि से यह शहर भारत और नेपाल दोनों के लिए ऐतिहासिक माना जाता है। दरअसल, जनकपुर को प्राचीन काल में मिथिला की राजधानी माना जाता था। यहां पर प्रसिद्ध राजा जनक थे जो कि सीता के पिता थे। राजा जनक की बेटी सीता को जानकी के नाम से भी जाना जाता है।
कालांतर में सीता का विवाह तत्कालीन अयोध्या नरेश दशरथ के बेटे भगवान राम से हुआ इसीलिए जनकपुर को भगवान राम का ससुराल कहा जाता है। पौराणिक कथाओं के मुताबिक जनकपुरी में राम-सीता का विवाह हुआ था। जहां बाद में जानकी मंदिर बना दिया गया। अब यह मंदिर हिंदुओं के लिए अहम तीर्थस्थल बन गया है।
इतना ही नहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी नेपाल यात्रा के दौरान पशुपतिनाथ मंदिर के भी दर्शन करेंगे। यह मंदिर हिंदू धर्म के लोगों के 8 मुख्य मंदिरों में से एक माना जाता है। यह भगवान शिव का मंदिर है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »