बलरामपुर में बोले पीएम मोदी: भारत दुख में है, लेकिन वह इस दर्द को सहते हुए भी आगे बढ़ेगा… देश को ताकतवर और समृद्धशाली बनाएंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूपी के बलरामपुर में बेहद भावुक अंदाज में कहा कि भारत दुख में है। उन्होंने 8 दिसंबर के हेलिकॉप्टर हादसे में मारे गए सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी के अलावा अन्य 11 फौजी जांबाजों के निधन का जिक्र करते हुए कहा कि देश इस दर्द को सहते हुए भी आगे बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि जनरल बिपिन रावत जहां भी होंगे, वो देश की प्रगति के साक्षी बनेंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार और देश की जनता और अधिक मेहनत करके भारत को ताकतवार और समृद्धशाली बनाएंगे।
भारत रुकेगा नहीं, भारत थमेगा नहीं: पीएम मोदी
पीएम मोदी ने बलराम में सरयू कनाल नेशनल प्रोजेक्ट का उद्घाटन समारोह में जुटी हजारों की भीड़ को संबोधित करते हुए कहा, ‘भारत दुख में है, लेकिन दर्द सहते हुए भी हम ना अपनी गति रोकते हैं और ना हमारी प्रगति। भारत रुकेगा नहीं, भारत थमेगा नहीं।’ मोदी ने कहा, ‘जनरल बिपिन रावत आने वाले दिनों में अपने भारत को नए संकल्पों के साथ, वे जहां होंगे, वहां से भारत को आगे बढ़ते हुए देखेंगे। देश की सीमाओं की सुरक्षा बढ़ाने का काम, बॉर्डर इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने का काम, देश की सेनाओं को आत्मनिर्भर बनाने का अभियान, तीनों सेनाओं में तालमेल सुदृढ़ करने का अभियान, ऐसे अनेक काम तेजी से आगे बढ़ते रहेंगे।’ उन्होंने कहा कि ‘हम भारतीय मिलकर और मेहनत करेंगे, देश के भीतर और देश के बाहर बैठी हर चुनौती का मुकाबला करेंगे। भारत को और शक्तिशाली और समृद्ध बनाएंगे।’
वीरों की धरती से श्रद्धांजलि दे रहा हूं: मोदी
प्रधानमंत्री ने हादसे में प्राणों का बलिदान देने वाले जांबाजों को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा, ‘राष्ट्र निर्माताओं और राष्ट्र रक्षकों की इस धरती से मैं आज देश के उन सभी वीर योद्धाओं को भी श्रद्धांजलि दे रहा हूं जिनका 8 दिसंबर को हेलिकॉप्टर हादसे में निधन हो गया। भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत जी का जाना हर भारतप्रेमी के लिए, हर राष्ट्रभक्त के लिए बहुत बड़ी क्षति है। जनरल बिपिन रावत जी जितने जांबांज थे, देश की सेनाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जितनी मेहनत करते थे, पूरा देश उसका साक्षी रहा है।’
पीएम ने बताई सैनिकों की शक्ति
पीएम मोदी ने कहा कि कोई सैनिक सेना में रहने तक ही सैनिक नहीं रहता है, वो जीवनभर सैनिक रहता है। उसका पूरा जीवन एक योद्धा की तरह होता है। देश की आन-बान-शान के लिए वो हर पल समर्पित होता है। उन्होंने गीता के श्लोक का हवाला देकर कहा, ‘गीता में कहा गया है- नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावकः। ना शस्त्र उसे छिन्न-भिन्न कर सकते हैं, ना अग्निन उसे जला सकती है।’
ग्रुप कैप्टन की जिंदगी के लिए दुआ
प्रधानमंत्री ने हादसे में जिंदा बचे एकमात्र जांबाज ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह के स्वस्थ होने की कामना की। मोदी ने कहा, ‘यूपी के सपूत, देवरिया के रहने वाले ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह जी का जीवन बचाने के लिए डॉक्टर जी-जान से लगे हुए हैं। मैं मां पाटेश्वरी से उनके जीवन की रक्षा की प्रार्थना करता हूं। देश आज वरुण सिंह जी के परिवार के साथ है, जिन वीरों को हमने खोया है, उनके परिवारों के साथ है।’
देश को सदमें में डाल देने वाला वो हेलिकॉप्टर हादसा
ध्यान रहे कि तमिलनाडु में नीलगिरी के जंगलों में 8 दिसंबर को वायुसेना का एमआई17वाई5 हेलिकॉप्टर हादसे का शिकार हो गया। हेलिकॉप्टर में देश के प्रथम प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (CDS) जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत कुल 14 लोग सवार थे। इनमें ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह को छोड़कर शेष 13 लोगों का निधन हो गया। सीडीएस और उनकी पत्नी का अंतिम संस्कार शनिवार को किया गया। उनकी दोनों बेटियों ने चिताओं को मुखाग्नि दी। उनके अस्थि कलश आज हरिद्वार विसर्जित किए गए।
PM मोदी ने दी सरयू नहर प्रोजेक्ट की सौगात, अखिलेश पर कसा तंज
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में सरयू नहर परियोजना का लोकार्पण किया। 9800 करोड़ रुपये की इस परियोजना का फायदा 9 जिलों के 25 से 30 लाख किसानों को होगा। इससे 14 लाख हेक्टेअर सिंचन क्षमता बढ़ेगी। कार्यक्रम में सीएम योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे। इस परियोजना को पूरा होने में 50 साल का समय लग गया।
​PM बोले, पानी प्राप्त करेंगे किसानों के प्यासे खेत
हर किसान के खेत तक पानी पहुंचे यही सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। उसका सबूत है सरयू नहर परियोजना का पूरा होना है। जब सोच ईमानदार होती है तो काम दमदार होता है। इतिहास गवाह है कि अगर किसी प्यासे को प्याला भर पानी पिला दें तो वो इंसान जीवन भर उस इंसान को नहीं भूलता है। आज किसानों के प्यासे खेत जब पानी प्राप्त करेंगे तो हमें भरोसा है कि जीवन भर आपका आशीर्वाद हमें काम करने की प्रेरणा देगा।
पीएम मोदी ने बलरामपुर में सरयू नहर परियोजना के उद्घाटन कार्यक्रम में जनसभा को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव पर तंज कसा। मोदी ने बिना नाम लिए अखिलेश पर तंज कसते हुए कहा- आज जब मैं दिल्ली से यहां के लिए चला तो इंतजार कर रहा था कि कोई कह दे कि यह परियोजना तो हमने शुरू की थी। कुछ लोग केवल लालफीता काटने के लिए ही सोचते रहते हैं।
सरयू नहर परियोजना से जुड़ेंगे नेपाल से लगे यूपी के 9 जिले
सरयू नहर परियोजना से बहराइच, श्रावस्ती, बलरामपुर, गोंडा, बस्ती, सिद्धार्थनगर, संतकबीरनगर, महराजगंज और गोरखपुर को जोड़ा गया है। 1972 में इस योजना का ड्राफ्ट बना था और 1978 में काम शुरू हुआ था। इसे पूरा होने में 43 साल लग गए। 2017 तक योजना में महज 52% काम हुआ था। साढ़े चार सालों में बचा 48% काम पूरा किया गया है।
318 किलोमीटर लंबी परियोजना, 9800 करोड़ लागत
318 किमी लंबी इस परियोजना को 9,800 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है। सरयू नहर परियोजना का फायदा 9 जिलों के 30 लाख किसानों को होगा। इससे 14 लाख हेक्टेयर सिंचन क्षमता बढ़ेगी। कार्यक्रम में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और सीएम योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे।
पांच नदियां आपस में जुड़ेंगी सरयू नहर परियोजना से
सरयू नहर परियोजना में पांच नदियों को भी जोड़ा गया है। घाघरा, सरयू, राप्ती, बाणगंगा और रोहिन नदियों को जोड़ते हुए 318 किलोमीटर लम्बी मुख्य नहर और इससे जुड़ी 6,600 किलोमीटर लिंक नहरों वाली उक्त नहर से पूर्वांचल के नौ जिले जुड़ेंगे। इस परियोजना से एक तरफ जहां किसानों को खेतों में सिंचाई के लिए मुफ्त पानी की सुविधा मिलेगी, वहीं दूसरी तरफ बाढ़ की त्रासदी भी कम होगी। नदियों के पानी का डायवर्जन नहरों में होने से बाढ़ का असर कम होगा।
12 पीएम और 15 सीएम के कार्यकाल के गवाह बना प्रोजेक्ट
इस परियोजना की परिकल्पना 1971 में तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने की थी लेकिन पूरा होने में पांच दशक बीत गए। सरयू नहर परियोजना देश के 12 प्रधानमंत्री और उत्तर प्रदेश के 15 मुख्यमंत्री के कार्यकाल की गवाह बन गई। पिछले चार साल में इस परियोजना के काम में तेजी लाई गई।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *