CSIR सोसायटी के साथ वर्चुअल बैठक में पीएम मोदी ने कहा, संकट के इस दौर में भी विज्ञान ने और बेहतर भविष्य के रास्ते तैयार किए

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद CSIR सोसायटी के साथ वर्चुअल बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी पूरी दुनिया के लिए इस शताब्दी की सबसे बड़ी चुनौती है। इतिहास में मानवता पर इतना बड़ा संकट पहले कभी नहीं आया। इस संकट के दौर में भी विज्ञान ने और बेहतर भविष्य के रास्ते तैयार किए हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बीती शताब्दी का अनुभव है कि जब पहले कोई खोज दुनिया के दूसरे देशों में होती थी तो भारत को उसके लिए लंबे समय तक इंतजार करना पड़ता था लेकिन हमारे देश के ही वैज्ञानिक दूसरे देशों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे हैं, उतनी ही तेज गति से काम कर रहे हैं। प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक इस वर्चुअल बैठक में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन के अलावा देश के नामी वैज्ञानिक, उद्योगपति और वरिष्ठ अधिकारी शामिल रहे।
जानिए क्यों खास है ये मीटिंग
विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अंतर्गत काम करने वाले वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान विभाग का हिस्सा है। गौरतलब है कि सोसाइटी की गतिविधियों को पूरे भारत में फैले 37 प्रयोगशालाओं और 39 आउटरीच केंद्रों के माध्यम से चलाया जाता है। हर साल प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में सोसायटी की बैठक होती है।
देश में कम हो रहा कोरोना संक्रमण
देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर लगातार कमजोर पड़ रही है। गुरुवार को 1,31,280 नए कोरोना संक्रमति मामले सामने आए। अभी तक देश में 2,85,72,359 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। नए मामलों की अपेक्षा ठीक होने वालों का आंकड़ा लगातार 21वें दिन भी काफी अधिक रहा। गुरुवार को 2,05,771 लोग ठीक भी हुए। देश में कोरोना संक्रमित सक्रिय मामलों की बात की जाए तो बीते 24 घंटे में 77,289 केस की कमी देखी गई। देश में अभी 16,31,427 सक्रिय मामले हैं, हालांकि गुरुवार को 2,705 लोगों की मौत हुई है और अभी तक देश में 3,40,719 लोगों की जान कोरोना के कारण जा चुकी है। गुरुवार को भी सबसे ज्यादा 643 लोगों की मौतें महाराष्ट्र में हुई है। तमिलनाडु से 460, कर्नाटक से 514, केरल से 153, बंगाल से 108, उप्र से 108 और दिल्ली से 45 लोगों ने कोरोना महामारी के कारण अपनी जान गंवा दी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *