देश के पहले विश्वस्तरीय मॉडल रेलवे स्टेशन का पीएम मोदी ने किया उद्घाटन

मध्यप्रदेश का रानी कमलापति रेलवे स्टेशन देश का पहला विश्वस्तरीय मॉडल स्टेशन है, जहां अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे की तर्ज पर यात्रियों को सभी सुविधाएं मुहैया कराई गईं हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को इस स्टेशन का उद्घाटन किया। इसके बाद प्रधानमंत्री ने कार्यक्रम को संबोधित किया और आज के दिन को भोपाल, मध्यप्रदेश और देश के लिए अहम बताया। उन्होंने कहा कि एक समय था जब लोगों ने रेलवे की सुविधाओं में सुधार की उम्मीद छोड़ दी थी लेकिन हम उन उम्मीदों को पूरा करने का काम कर रहे हैं।

मोदी ने कहा कि बीते सात वर्षों में हर साल औसतन ढाई हजार किमी ट्रैक कमीशन किया गया है। इससे पहले के वर्षों में यह 1500 किमी के आसपास ही होता था। रेलवे ट्रैक के विद्युतीकरण की रफ्तार पांच गुना तक बढ़ गई है। देश के मजबूत होते रेलवे इन्फ्रास्ट्रक्चर का लाभ किसानों, छात्रों, व्यापारियों और उद्यमियों को होता है। अब किसान रेलवे के जरिए अपना मान देश के कोने-कोने में भेज सकते हैं, रेलवे उन्हें इसमें छूट भी दे रहा है।

आने वाले समय के लिए खुद को तैयार कर रहा देश: मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के संकल्प के साथ देश आने वाले वर्षों के लिए खुद को तैयार कर रहा है। आधुनिक इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए रिकॉर्ड निवेश को कर ही रहे हैं, यह भी सुनिश्चित कर रहे हैं कि ये काम समय से पूरे हों। उन्होंने कहा कि बेहतर इन्फ्रास्ट्रक्चर की जरूरत को समझा जा रहा है और इसके लिए निवेश भी बढ़ाया जा रहा है।

बेहतर सुविधाएं देना करदाताओं का सही सम्मान: मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि गुणवत्तापूर्ण इन्फ्रास्ट्रक्चर और सुविधाओं की देश के करदाताओं को और मध्यमवर्ग को हमेशा उम्मीद रही है। यही इन करदाताओं का सही सम्मान है। रेलवे स्टेशनों के पूरे ईकोसिस्टम को इसी तरह से बदलने के लिए आज देश के 175 से अधिक स्टेशनों का कायाकल्प किया जा रहा है और नई ट्रेनें चलाने की तैयारी की जा रही है।

प्लानिंग के साथ समय पर काम पूरा करने पर जोर: मोदी

मोदी ने कहा कि एक समय था जब रेलवे के इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट को ड्राइंग बोर्ड से जमीन पर उतरने में सालों-साल लग जाते थे। मेरे सामने कई प्रोजेक्ट ऐसे आए जो 35 साल पहले घोषित कर दिए गए थे लेकिन अभी तक पूरे नहीं हो पाए। रेलवे में जितनी जल्दी नए प्रोजेक्ट की प्लानिंग की है उतनी ही गंभीरता उन्हें समय पर पूरा करने की भी है।

लोगों ने छोड़ दी थी सुधार की उम्मीद: पीएम

पीएम मोदी ने कहा कि भारतीय रेलवे की स्थिति एक समय में इतनी बिगड़ गई थी कि लोगों ने इस बात को मान लिया था कि इसमें सुधार नहीं होने वाला और सुधार की उम्मीदें छोड़ दी थीं लेकिन जब देश ईमानदारी से संकल्पों की सिद्धि से जुड़ता है तो सुधार आता ही आता है, परिवर्तन होता ही होता है। यह हमने बीते वर्षों में लगातार देखा है।

पहले लोग रेलवे को केवल कोसते थे: मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सपने किस तरह सच होते हैं, भारतीय रेलवे इसका उत्तम उदाहरण बन रहा है। छह-सात साल पहले जिसका पाला रेलवे से पड़ता था वह इसे कोसते हुए ही नजर आता था। स्टेशनों पर गंदगी, ट्रेनों की लेटलतीफी, स्टेशनों पर बैठने और खाने पीने की असुविधा, सुरक्षा की भी चिंता व दुर्घटना का डर जैसी समस्याएं थीं।

गोंडवाना के गौरव से जुड़ा भारतीय रेल का गौरव

प्रधानमंत्री ने कहा कि भोपाल के इस ऐतिहासिक रेलवे स्टेशन का केवल कायाकल्प ही नहीं हुआ है बल्कि किन्नौरगढ़ की रानी कमलापति का इससे नाम जुड़ने से इसका महत्व और बढ़ गया है। उन्होंने कहा कि गोंडवाना के गौरव से आज भारतीय रेल का गौरव भी जुड़ गया है। यह सब ऐसे समय में हुआ है जब आज देश जनजातीय गौरव दिवस मना रहा है। मैं सबको इसकी बधाई देता हूं।

आज का दिन बहुत अहम: पीएम मोदी

स्टेशन का लोकार्पण करने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने कार्यक्रम को संबोधित भी किया। कार्यक्रम में मौजूद लोगों ने ‘मोदी-मोदी’ और ‘भारत माता की जय’ के नारे लगाते हुए प्रधानमंत्री का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि आज का दिन भोपाल के लिए, मध्यप्रदेश के लिए और पूरे देश के लिए गौरवपूर्ण इतिहास व वैभवशाली भविष्य के संगम का दिन है।

-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *