मद्रास IIT के दीक्षांत समारोह में पीएम मोदी ने ‘न्यू इंडिया’ का विजन स्‍पष्‍ट किया

चेन्नै। तमिलनाडु स्थित मद्रास IIT के 56वें दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छात्रों को ‘न्यू इंडिया’ विजन के बारे में बताते हुए इनोवेशन और टीम वर्क के लिए प्रोत्साहित किया।
उन्होंने कहा कि दुनिया के किसी भी कोने में रहिए, कुछ भी करिए लेकिन मन में हमेशा अपनी मातृभूमि की जरूरत का ध्यान रखें।
पीएम मोदी ने कहा कि 21 वीं शताब्दी की स्थापना तीन जरूरी स्तंभों पर टिकी हुई है- इनोवेशन, टेक्नोलॉजी और टीम वर्क। उन्होंने आगे कहा, ‘मैं अभी अमेरिका से लौटा हूं। इस दौरान मैं कई देशों के मुखिया से मिला, इनोवेटर, इंवेस्टर्स से मिला है। हमारी चर्चा में एक चीज कॉमन थी- न्यू इंडिया को लेकर हमारा विजन और भारत के युवाओं की योग्यता पर भरोसा।’
टीचर, पैरंट्स का खड़े होकर अभिवादन
पीएम मोदी ने आगे कहा, ‘मैं सबसे गुजारिश करना चाहता हूं कि आप चाहे जहां काम करें, जहां कहीं भी रहें, दिमाग में हमेशा अपनी मातृभूमि भारत की जरूरत को रखें।’
पीएम मोदी ने सभी छात्रों से खड़े होकर अपने टीचर, पैरंट्स और सपोर्टिंग स्टाफ का अभिवादन करने को कहा। इस दौरान सभी छात्रों ने अपनी जगह से खड़े होकर ताली बजाई।
‘सबसे नई भाषा का घर भी है तमिलनाडु’
तमिलनाडु का गुणगान करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘यहां पहाड़ चलते हैं और नदियां ठहरी हुई होती हैं। हम तमिलनाडु में हैं, जिसकी विशेष पहचान है। यह विश्व की सबसे पुरानी भाषा का गृहस्थान है। यह देश की सबसे नई भाषा का घर भी है- IIT मद्रास लिंगो।’
उन्होंने आगे कहा, ‘आपका दीक्षांत समारोह आपके कोर्स का निष्कर्ष हो सकता है लेकिन यह आपकी शिक्षा का अंत नहीं है। एजुकेशन और लर्निंग हमेशा चलने वाली प्रक्रिया है। हम जब तक जीते हैं कुछ न कुछ सीखते हैं।’
‘प्लास्टिक का विकल्प तैयार हो’
वहीं प्लास्टिक का इस्तेमाल रोकने के लिए पीएम मोदी ने नए विकल्प की ओर जोर दिया।
उन्होंने कहा, ‘आज, एक समाज के रूप में, हम प्लास्टिक के उपयोग से आगे बढ़ना चाहते हैं। इसका ईको फ्रेंडली विकल्प क्या हो सकता है जिसे इसी तरह उपयोग में लाया जा सके लेकिन उसका प्लास्टिक के बराबर नुकसान न हो? हम आपके जैसे इनोवेटर्स से इसकी खोज चाहते हैं।’
‘सपने देखना बंद न करना’
IIT पास आउट को मेसेज देते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘कभी सपने देखना बंद न करो और खुद को चुनौतियों के सामने पेश करो। इस तरह आप खुद को विकसित करते रहेंगे और अपना एक बेहतर वर्जन तैयार कर पाएंगे।’ पीएम मोदी ने कहा, ‘भारतीयों ने पूरे विश्व में अपनी एक पहचान बनाई है। खासकर, साइंस, टेक्नोलॉजी और इनोवेशन के क्षेत्र में। इन्हें कौन शक्ति दे रहा है? इनमें से कई IIT सीनियर हैं।’
‘स्टार्टअप के लिए बाजार ढूंढना है अगली चुनौती’
पीएम मोदी ने कहा, ‘हमारी अगली चुनौती स्टार्ट अप को विकसित करने के लिए एक बाजार ढूंढना है। स्टार्ट-अप इंडिया प्रोग्राम इस चुनौती को पूरा करने में आपकी मदद करने के लिए बनाया गया है।’ इससे पहले एक कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि विश्व की भारत से बहुत उम्मीदें हैं और उनकी सरकार देश को ‘महानता’ के उस रास्ते पर ले जाएगी जहां वह पूरी दुनिया के लिए फायदेमंद साबित होगा। इस साल लोकसभा चुनाव में सत्ता में फिर से आने के बाद तमिलनाडु के पहले दौरे पर आए प्रधानमंत्री ने एक बार इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक के खिलाफ अपने अभियान को दोहराया।
‘दुनिया को है भारत से उम्मीदें’
पीएम मोदी ने कहा, ‘हाल ही में संपन्न अपनी अमेरिकी यात्रा के दौरान मैंने देखा कि विश्व की आगे बढ़ रहे भारत से बहुत उम्मीदें हैं। हम निश्चित तौर पर भारत का तेजी से कल्याण सुनिश्चित करेंगे। हम इसे इतना महान देश बनाएंगे कि यह दुनिया के लिए उपयोगी साबित होगा।’
उन्होंने हवाईअड्डे पर बीजेपी द्वारा आयोजित सम्मान समारोह में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि देश को महान बनाना केवल केंद्र सरकार का काम नहीं है बल्कि यह 130 करोड़ नागरिकों की भी जिम्मेदारी है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि यह देश के कोने-कोने में बसे नागरिकों का काम है ‘चाहे वह शहर या गांव में रह रहे हो, अमीर या गरीब हो और जवान या बूढ़े हो’ देश इन सभी के योगदान से महान बनेगा। एक बार इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक के खिलाफ अपने अभियान को दोहराते हुए उन्होंने कहा कि इसके इस्तेमाल ने बड़ी समस्या पैदा की।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *