केरल के लिए पीएम ने किया 500 करोड़ रुपये की तत्काल मदद का ऐलान

तिरुवतंनपुरम। पिछले 100 सालों की सबसे भयानक बाढ़ की चपेट में आए केरल में हालात का जायजा लेने गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। प्रधानमंत्री ने प्रदेश के बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण भी किया। पीएम ने बाढ़ से प्रभावित केरल के लिए 500 करोड़ रुपये की तत्काल मदद का ऐलान किया है। इसके अलावा प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से मृतकों के परिजनों को 2 लाख तथा घायलों को 50 हजार रुपये की मदद का ऐलान भी किया गया है।
प्रधानमंत्री मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन, केंद्रीय मंत्री के. जे. ऐल्फॉन्स तथा अन्य अधिकारियों के साथ बाढ़ की इस विभीषिका से निपटने के लिए समीक्षा बैठक ली।
इससे पहले ऐसी खबरें आ रही थी कि खराब मौसम की वजह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हवाई सर्वेक्षण को कैंसल हो सकता है, हालांकि मौसम साफ होने के बाद उन्होंने हवाई सर्वे किया।
बता दें कि दक्षिण भारत का तटवर्ती राज्य केरल पिछले 100 सालों की सबसे भयंकर बाढ़ में डूबा हुआ है। अकेले गुरुवार को ही 106 लोगों की बाढ़ और भूस्खलन के चलते मौत हो गई। अब तक इस विभीषिका में मरने वालों का आंकड़ा 324 हो चुका है। 8 अगस्त से अब तक यानी महज 10 दिनों में ही कुल 173 लोग बाढ़ के चलते काल के गाल में असमय ही समा चुके हैं। तबाही के चलते फसल और संपत्तियों समेत कुल 8 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का नुकसान हुआ है। सूबे में अब भी खतरा टला नहीं है क्योंकि राज्य की लगभग सभी नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं।
2.23 लाख लोग बेघर, कुछ दिनों में राहत की उम्मीद
बाढ़ के चलते सूबे में करीब 2.23 लाख लोग और 50,000 परिवार बेघर हो गए हैं। इन लोगों को 1.568 रिलीफ कैंपों में शिफ्ट किया गया है। दो दिन की भीषण बारिश के बाद शुक्रवार को कुछ राहत दिखी थी। मौसम विभाग का कहना है कि आने वाले दिनों में सूबे में बारिश कम होने की उम्मीद है। हालांकि कुछ इलाकों में भारी बारिश जारी रहने की आशंका है। शुक्रवार को एनडीआरएफ की टीम ने 82,000 लोगों को बचाया।
केंद्र ने राहत कार्य के लिए तैनात कीं ये टीमें
केरल में बाढ़ से बिगड़े हालातों को संभालने के लिए कैबिनेट सचिव ने नेवी, एयरफोर्स, आर्मी, कोस्ट गार्ड और एनडीआरएफ की टीमों को मोर्चा संभालने के लिए कहा है। नौसेना को डाइविंग टीमों के साथ 51 बोट्स समेत भेजने का फैसला लिया है। इसके अलावा 1,000 लाइफ जैकेट्स और 1,300 गमबूट्स भी नेवी को दिए गए हैं। नेवी ने 48 घंटों में 16 उड़ानें भरीं और विमानों से 1,600 फूड पैकेट्स गिराए गए। अब तक कुल 1 लाख फूड पैकेट्स बांटे जा चुके हैं और एक लाख अन्य पैकेट्स बांटने की योजना है।
सेना और कोस्ट गार्ड्स भी बचाव में जुटे
कोस्ट गार्ड्स को 30 बोट्स, 300 लाइफ जैकेट्स, 7 लाइफ राफ्ट्स और 144 पानी में तैरते रहने वाले आइटम्स के साथ भेजा तैनात किया गया है। हालात को संभालने के लिए सेना के 10 कॉलम्स को भी तैनात किया गया है। यही नहीं इनके साथ 10 इंजिनियरिंग टास्क फोर्सेज भी हैं। 60 बोट्स और 100 लाइफ जैकेट्स भी इसमें शामिल हैं।
रेलवे भी बचाव एवं राहत में कर रहा पूरी मदद
रेलवे ने बाढ़ से प्रभावित लोगों को अब तक 1.2 लाख पानी की बोतलें सप्लाई की हैं। इतने ही बोतलों की एक और खेप भेजने की तैयारी चल रही है। शनिवार को 2.9 लाख लीटर पेयजल के साथ स्पेशल ट्रेन शनिवार को कायाकुलम पहुंचेगी। नेवी ने कोच्ची में अपनी हवाई पट्टी को नागरिक उड़ानों के इस्तेमाल का प्रस्ताव दिया है। इसके अलावा केरल सरकार को ऐसे इलाकों में वी-सैट लिंक्स का इस्तेमाल करने की सलाह दी गई है, जहां फोन की कनेक्टिविटी नहीं है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »