आगरा में जल समस्या के समाधान हेतु जलाधिकार foundation की योजनाएं

आगरा। आगरा में जल समस्या के समाधान हेतु जलाधिकार foundation आगरा टीम ने निम्न योजनाएं तैयार की हैं।

जलाधिकार फाउन्डेशन के पदाधिकारियों ने इन योजनाओं के बिंदुओं के बारे में बताया कि पिछले पचास वर्षों से अनिधिक्रत जमीन जलाधिकार टीम ने अवधेश कुमार उपाध्याय के नेतृत्व में बांध बनाया और अब पं दीनदयाल सरोवर (जोधपुर झाड़) में लवालव पानी भरा हुआ है हमारा प्रशासन व सरकार से अनुरोध है कि तुरन्त पर्यटक व सिंचाई विभाग से कहकर इस स्थल को पर्यटक स्थल के रूप में विकसित कराये और सिंचाई विभाग स्लूस गेट लगाकर पानी के फ्लो को नियंत्रित करने का कार्य करें। इससे मथुरा व आगरा क्षेत्र के किसानों का तुरंत भला हो सकेगा ।

आगरा में जल संस्थान द्वारा नलों में सप्लाई किया जाता है और जल निगम इसे सरकारी मानकों के आधार पर संशोधित कर सप्लाई करता है
जलाधिकार टीम जल निगम को चेतावनी देती है कि मार्च तक हर घर में सप्लाई होने वाला पानी पीने योग्य हो और मानकों के अनुरूप हो । विभाग सोशियल एवम टैक्निकल आडिट कराये और हर उपभोक्ता से सन्तुष्टि प्रमाण ले । यदि ऐसा नहीं हुआ तो जलाधिकार टीम के सदस्य हर वो सरकारी व गैर सरकारी कदम जनता के साथ मिलकर उठायेगें जिससे प्रशासन को परेशानी होगी। और मजबूरी में बिन पैसे का पीने योग्य पानी सप्लाई होगा।

जलाधिकार टीम ने पार्क माइनर नहर का लगभग ८० प्रतिशत खुलवाने का कार्य करा दिया हमें खुशी है कि प्रशासन ने शीघ्र ही शेष हिस्सा खुलवाने का निर्णय लिया है । हमारा अनुरोध है कि पर्यटक या अन्य विभाग द्वारा खुली नहर के दोनों ओर लोहे का जाल बिछाया जाए और नगर निगम दोनों ओर बहने वाले नाले व सीवेज का शीघ्र ही प्रबंधन कर देगा ।

जलाधिकार foundation ने कहा कि हम प्रशासन से मांग करते है कि गंगा जल पाइपलाइन पर तुरन्त स्वेत पत्र जारी करें और जनता को सच्चाई बताये ।
इस अवसर पर जलाधिकार foundation के राजीव सक्सेना, डा अनुराग शर्मा, भारद्वाज (एडवोकेट), नितिन अग्रवाल,दिवाकर तिवारी,बिमल जैन, अजीत गर्ग,ई तत्सत शर्मा, राकेश शर्मा, सीए सुबोध सिंघल आदि उपस्थित थे।