पायलटविहीन MiG-41 फाइटर जेट अंतरिक्ष तक उड़ान भरेगा

मुंबई। रूस ने अपनी छठी पीढ़ी का एयरक्राफ्ट MiG-41 को अंतरिक्ष तक उड़ान भरने के लिए तैयार किया है जो न केवल रफ्तार के मामले में शानदार होगा बल्‍कि कई नई तकनीकों से लैस होगा और यह पायलटविहीन अपनी यात्रा पूरी करेगा। इसका पावरफुल लेजर दुश्मन की मिसाइल को पूरी तरह ध्वस्त कर देगा। रूस की ओर से कहा जा रहा है कि यह अंतरिक्ष में जाने में सक्षम होगा। खास बात यह है कि इसके लिए पायलट की भी जरूरत नहीं होगी।

MiG 31 की लेगा जगह
यह नया फाइटर जेट फिलहाल MiG 31 की जगह लेने के लिए डिजाइन किया जा रहा है। इसके निर्माताओं का कहना है कि क्षमताओं के मामले में यह कहीं बेहतर साबित होगा। यह जेट एक नये हथियार की तरह होगा। स्पीड के मामले में भी यह काफी शानदार होगा। हालांकि, इस एयर क्राफ्ट के लिए थोड़ा इंतजार करना होगा।

सेफगार्ड की तरह करेगा काम
हर तरह से यह एक नया विमान होगा, जहां आर्कटिक क्षेत्र में पूरी तरह नई तकनीकों का इस्तेमाल किया जा सकेगा। यह प्लेन किसी सेफगार्ड की तरह एक देश की सीमा की रक्षा करेगा। खास बात कि यह मानवरहित होगा। यानी इसे ऑपरेट करने के लिए पायलट की जरूरत नहीं होगी। फिलहाल इसके निर्माण और विकास पर कार्य चल रहा है, इसलिए इसके बारे में थोड़ी ही जानकारी उपलब्ध है। हालांकि हाई एल्टीट्यूट फाइटर में इस तरह के बड़े दावे कोई पहली बार नहीं हुए है।

रूस इससे पहले भी कह चुका है कि दुश्मन की मिसाइल को ध्वस्त करने के लिए वह अपने जेट में शक्तिशाली लेजर तैनात करेगा। रूस डिफेंस इंडस्ट्री के मुताबिक यह लेजर दुश्मन की मिसाइल पर अटैक करके उनके होमिंग सिस्टम को पूरी तरह ध्वस्त करने में सक्षम होंगे। रेडियो इलेक्ट्रॉनिक टेक्नोलॉजी ग्रुप के फर्स्ट डिप्टी सीईओ के एडवाइजर व्लादिमीर मिखेयेव का कहना है कि हमारे पास पहले से ही लेजर प्रोटेक्शन सिस्टम है, जो एयरक्राफ्ट और हेलीकॉप्टर में लगाया है। लेकिन, अब पावर लेजर के क्षेत्र में विकास पर बात चल रही है, जो मिसाइल पर अटैक करके उन्हें ध्वस्त कर सकेगी।

मॉस्को हायर स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में रूस के डिफेंस एनालिस्ट वसीली काशीन का कहना है कि छठी पीढ़ी या यह एयरक्राफ्ट 2035-40 तक सबसे बेहतरीन एयरक्राफ्ट होगा।

नई तकनीक पर चलेगा
सुखोई सिविल एयरक्राफ्ट कंपनी के सीईओ इला तेरासेनको के मुताबिक यह जेट सिर्फ ट्रॅ-31 का मॉडराइजेशन ही नहीं होगा। बल्कि यह पूरी तरह एक नई मशीन होगी, जिसकी खूबियां भी अलग और नई होंगी। MiG-41 रफ्तार के मामले में तो शानदार होगा ही यह हथियार की तरह भी इस्तेमाल हो सकेगा और नई परिचालन सीमा के साथ MiG-41 अंतरिक्ष में भी जा सकेगा।

यह सभी बातें उन्होंने जवेज्दा टीवी से इंटरव्यू के दौरान कहीं।

-एजेंसी