संस्कृति विवि में शुरू हुआ फिजियोथैरेपी एंड रिसर्च सेंटर

मथुरा। संस्कृति विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ मेडिकल एंड एलाइड साइंसेज एवं संस्कृति आयुर्वेद मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के संयुक्त सहयोग से संस्कृति फिजियोथेरेपी एंड रिसर्च सेंटर का शुभारंभ किया गया है। ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ अभ‍ियान के तहत इस र‍िसर्च सेंटर में अत्याधुनिक मशीनों से युक्त इस केंद्र में शरीर संबधी अनेक विकारों का निदान किया जा रहा है।

संस्कृति फिजियोथैरेपी विभाग के अध्यक्ष डॉ. त्रिवेदी नवजोत शांतिलाल ने बताया कि संस्कृति फिजियो थैरेपी सेंटर सोमवार से शुक्रवार के दौरान सुबह 10 बजे से दोपहर तीन बजे तक खुला रहेगा। सेंटर में गर्दन के दर्द, पीठ दर्द, कमर दर्द, जोड़ों के दर्द, वात रोग जिसके कारण घुटनों, कूल्हे, कंधे में दर्द बना रहता है, लकवा, चेहरे का लकवा, खेल की चोट, हाथ और पैर की झुनझुनी और दर्द, शायटिका दर्द, फ्रैक्चर के बाद की जकड़न, मांसपेशी के दर्द, जोड़ प्रत्यारोपण के बाद के उपचार, बच्चों के विकास में कमी, कंधे, कोहनी, हाथ के दर्द, फेफड़े, ह्रदय रोग के आपरेशन के बाद होने वाली परेशानियों का उपचार विशेषज्ञ और निपुण फिजियोथैरेपिस्टों की टीम द्वारा किया जाएगा।

डॉ. त्रिवेदी ने बताया कि वर्तमान जीवन शैली के कारण लोग अनेक तरह के दर्द से पीड़ित हो जाते हैं। असावाधानी और अनदेखी के कारण ये दर्द गंभीर रूप ले लेते हैं। इसके विपरीत सही चिकित्सक से संपर्क कर इन रोगों को थोड़े से श्रम से ठीक किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि सेंटर में ट्रैक्शन मशीन, एडब्लूडी, टेंस, सीपीएम, वैक्स थैरेपी, मसल स्टीमुलेटर, अल्ट्रासाउंड, लैसर, हैंड रिहैब, नी रिहैब, इन्फ्रारेड, एंकल नी रिहैब की सुविधा उपलब्ध है।

– Legend News

100% LikesVS
0% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *