पार्टी छोड़ने के बाद फुल्‍का ने कहा, अब SGPC को पॉलिटिकल कब्जे से छुड़ाऊंगा

नई दिल्‍ली। गुरुवार को आम आदमी पार्टी से इस्‍तीफा देने के बाद वरिष्ठ वकील एचएस फुल्का ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि अब मैं संगठन की शुरुआत पंजाब से करूंगा. नशे के खिलाफ़ लड़ूंगा. SGPC काफी समय से एक पॉलिटिकल पार्टी के कब्जे में है. मेरा प्लान है पंजाब में नशे के खिलाफ लड़ने के लिए संगठन बनाना और SGPC को पॉलिटिकल कब्जे से छुड़ाना. उन्होंने कहा कि खुद SGPC चुनाव नहीं लड़ूंगा लेकिन संगठन बनाऊंगा. उन्होंने यह भी कहा कि मैं आगामी लोकसभा चुनाव नहीं लड़ूंगा.
वरिष्ठ वकील और आम आदमी पार्टी के नेता एचएस फुल्का ने गुरुवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया था. आम आदमी पार्टी छोड़ने के पीछे उन्होंने कहा कि इस्तीफा इसलिए दिया ताकि फिर से अन्ना हजारे के आंदोलन जैसा मूवमेंट खड़ा करें. उन्होंने कहा कि अब वे पंजाब में नशे के खिलाफ लड़ेंगें और एसजीपीसी (शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी) को राजनीतिक पार्टी से मुक्त कराएंगे.
एचएस फुल्का ने कहा कि आज से आठ साल पहले जब देश में अन्ना हजारे का आंदोलन शुरू हुआ तो इससे अपने-अपने क्षेत्र के समाज सेवक जुड़े और एक संगठन बना जो पॉलिटिकल पार्टी के समकक्ष खड़ा हो गया. ऐसे संगठन की देश को बहुत जरूरत थी. फिर सोचा गया कि इसको पॉलिटिकल पार्टी में बदल दिया जाए जिससे और ज्यादा समाज सेवा हो सके.
फुल्का ने कहा कि पांच साल के तजुर्बे से बहुत कुछ सीखा, लोकसभा में केवल 19000 वोटों से रह गया और विधानसभा बड़े मार्जिन से जीता. मैंने 1984 (1984 का सिख विरोधी दंगा) के लिए नेता विपक्ष का पद छोड़ा, आज लग रहा है वह फैसला सही था. बीते एक साल से एक्टिव पॉलिटिक्स से किनारा किया हुआ है. पार्टी की किसी मीटिंग में नहीं गया, बस अपने क्षेत्र (विधानसभा क्षेत्र) में काम किया.
उन्होंने कहा कि पांच साल के राजनीति के तजुर्बे ने सिखाया कि 2012 का फैसला कि मूवमेंट को राजनीति में बदलें, सही नहीं था. आज फिर अन्ना हजारे जैसे आंदोलन की जरूरत है. ऐसे संगठन की जरूरत है जो सच को सच और झूठ को झूठ कह सके. जब वह संगठन बोले तो पॉलिटिकल पार्टियां सुनने को मजबूर हों.
जब फुल्का से इस संवाददाता ने पूछा कि आप एक ऐसे संगठन की बात कर रहे हो जो सच को सच बोले, झूठ को झूठ बोले. आप नशे से लड़ने की भी बात कर रहे हो. तो क्या आम आदमी पार्टी इन मुद्दों पर या इस तरह से काम नहीं कर रही है? इस पर फुल्का ने कहा ‘नो कमेंट्स’
गौरतलब है कि एचएस फुल्का ने 1984 के सिख विरोधी दंगों के पीड़ितों के लिए कानूनी लड़ाई लड़ी. इस साल लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस और आप के बीच गठबंधन की संभावना को लेकर चल रही अटकलों के बीच उन्होंने आम आदमी पार्टी छोड़ दी.
उधर चरखी दादरी में आज अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पंजाब के आप नेता एचएस फुल्का अब राजनीति नहीं करना चाहते इसलिए उन्होंने इस्तीफा दिया है. फुल्का ने उनसे दिल्ली में मुलाकात की. केजरीवाल ने कहा कि यहां राजनीति करने नहीं, शहीदों का सम्मान करने आया हूं. उन्होंने पीएम मोदी के गुरदासपुर से लोकसभा चुनाव का प्रचार शुरू करने पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी.
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »