सिंगापुर में दूसरे चरण का संक्रमण शुरू, 14,000 मामले सामने आए

सिंगापुर में कोविड-19 के दूसरे चरण का संक्रमण शुरू हो चुका है. अब तक संक्रमण के कुल 14,000 मामले सामने आ चुके हैं लेकिन अब सवाल यह उठ रहा है कि क्या सरकार पर्याप्त टेस्टिंग कर रही है.
सिंगापुर में संक्रमण के ज्यादातर मामले प्रवासी मजदूरों से जुड़े हुए है. ये मजदूर काफी संख्या में तंग डॉरमेट्री में रहते हैं. अब तक 12 डॉरमेट्री को आइसोलेशन में रखा जा चुका है और इसके अंदर हज़ारों मजदूर क्वारंटीन में रह रहे है.
प्रवासी मजदूरों के संगठन ट्रांजिएंट वर्कर्स काउंट टू के एलेक्स वू ने बताया है कि पर्याप्त मात्रा में टेस्टिंग नहीं किए जा रहे थे और यह ‘स्पष्ट नहीं’ था कि किसका टेस्ट कराया जाएगा और किसका टेस्ट नहीं कराया जाएगा.
उन्होंने कहा कि “हमारे पास ऐसी ख़बरें आ रही हैं कि जिन मजदूरों को बुखार है, उन्हें डॉक्टर घंटों या फिर दिन-दिनभर नहीं देख रहे हैं. उन्हें सिर्फ़ पैरासीटामोल लेने को कहा जा रहा है और मॉनिटर करने को कह कर छोड़ दे रहे हैं इसलिए यह स्पष्ट नहीं हो पा रहा है कि किसका टेस्ट किया जा रहा है और किसका नहीं.”
उन्होंने कहा,”मुझे इससे इस बात का अंदेशा लग रहा है कि हमारे टेस्टिंग क्षमता के ऊपर काफी दबाव है इसलिए वो अपने हिसाब से टेस्टिंग के लिए लोगों को चुन रहे हैं. मैं निश्चित तौर पर तो नहीं कह सकता लेकिन मुझे आशंका है कि हमारी स्वास्थ्य सेवा संकट के कगार पर खड़ी है.”
सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्री जान किम योंग ने कहा है कि टेस्टिंग की दर कभी कम नहीं हुआ था. हर रोज 3000 मजदूरों की टेस्टिंग की जा रही थी. 21000 मजदूरों और डॉरमेट्री में रहने वाले हर 15 में से एक की टेस्टिंग पहले ही हो चुकी है.
वो कहते हैं,”अमरीका, ब्रिटेन हांगकांग और कोरिया जैसे दूसरे देशों की तुलना में यह टेस्टिंग दर काफी अधिक है. कोरिया में हर नब्बे में से एक की टेस्टिंग हुई है.”
न्यूज़ीलैंड में रेस्टोरेंट खुले
न्यूज़ीलैंड ने लॉकडाउन की सख्ती में थोड़ी छूट दी है और हाई अलर्ट के अपने उच्चतम स्तर से एक चरण नीचे आ गया है.
अब न्यूज़ीलैंड में तीसरे लेवल का लॉकडाउन हैं. इसके अंदर लोगों को अभी भी अपने घर के दायरे में ही रहना है लेकिन अब वो अपने क़रीबी रिश्तेदारों से मिल सकते हैं और आइसोलेशन में रहने वाले लोगों को मदद पहुँचा सकते हैं.
जितना संभव हो उतना लोगों को घर से ही काम करने की कोशिश करनी चाहिए और अगर दुकानदार कॉन्टैक्टलेस सेवाएँ प्रदान कर सकते हैं, तभी उन्हें अपनी दुकानें खोलनी चाहिए.
रेस्तरांओं में जहाँ अभी तक सिर्फ़ ऑनलाइन डिलीवरी की सुविधा मौजूद थी, अब वहाँ खाना पैक कराकर ले जा सकते हैं.
आप अपने घर के लोगों और करीबी रिश्तेदारों के साथ पार्क और बीच पर जा सकते हैं.
स्कूल खुल सकते हैं लेकिन उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा. बड़े पैमाने पर लोगों के इकट्ठा होने और सार्वजनिक जगहों के खुलने पर पाबंदी लगी रहेगी.
दुनिया भर में 30 लाख से ज़्यादा संक्रमित
दुनिया भर में कोरोना संक्रमण के मामले 30 लाख 40 हज़ार से ज़्यादा हो गए हैं. संक्रमण के सबसे ज़्यादा मामले जिन देशों में हैं-
अमरीका में कोरोना संक्रमित मरीज़ों की संख्या नौ लाख 88 हज़ार से ज़्यादा है. जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के कोविड-19 ट्रैकर के मुताबिक अमरीका में अब तक 56 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.
स्पेन में दो लाख 29 हज़ार से ज़्यादा संक्रमित लोग हैं. संक्रमण के लिहाज से स्पेन दूसरे नंबर पर है जबकि यहां अब तक 23, 500 से ज़्यादा लोगों की मौत हुई है.
इटली में संक्रमित मरीज़ों की संख्या एक लाख 99 हज़ार से ज़्यादा हो चुकी है. इटली में अब तक 26,977 लोगों की मौत हो चुकी है.
फ्रांस में एक लाख 65 हज़ार से ज़्यादा लोग संक्रमित हैं जबकि यहां 23 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हुई है.
संक्रमण के लिहाज से जर्मनी पांचवें पायदान पर ह, यहां अब तक एक लाख 58 हज़ार से ज़्यादा मरीज़ हैं जबकि मरने वालों की संख्या छह हज़ार के पार पहुंची है.
-BBC

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *