धीरूभाई अंबानी को मृत्योपरांत पद्म विभूषण सम्मान पर सवाल उठाने वाली याचिका खारिज

Petition dismissed for questioning of Padma Vibhushan after death Dhirubhai Ambani
धीरूभाई अंबानी को मृत्योपरांत पद्म विभूषण सम्मान पर सवाल उठाने वाली याचिका खारिज

नई दिल्ली। रिलायंस समूह के संस्थापक धीरूभाई अंबानी को मृत्योपरांत मिला पद्म विभूषण सम्मान वापस लेने संबंधी याचिका आज सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी।
हां, रिलायंस समूह के संस्थापक धीरूभाई अंबानी मृत्योपरांत दिए गए पद्म विभूषण सम्मान के योग्य थे, शुक्रवार को यह टिप्पणी सुप्रीम कोर्ट ने की। अंबानी को यह सम्मान पिछले साल दिया गया था।
जजों ने यह टिप्पणी धीरूभाई को मिला सम्मान वापस लेने संबंधी याचिका खारिज करते हुए की।
वकील पी. सी. श्रीवास्तव ने अपनी याचिका में यह तर्क दिया था कि धीरूभाई अंबानी ने देश के लिए कोई उत्कृष्ट या असाधारण काम नहीं किया था इसलिए उनसे यह सम्मान वापस ले लेना चाहिए। धीरूभाई अंबानी की 2002 में मृत्यु हो चुकी है।
सुप्रीम कोर्ट के जजों ने याचिका दाखिल करने वाले वकील से कहा, ‘अपने वक्त में वह देश के सबसे बड़े उद्योगपति के तौर पर जाने जाते थे। आप यह तय नहीं करेंगे कि किसे पद्म विभूषण मिलना चाहिए। अगर सरकार आपको यह सम्मान देती है, तब भी हम इस निर्णय पर सवाल नहीं उठा सकते।’
भारत रत्न के बाद पद्म विभूषण सम्मान भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला दूसरा सर्वाधिक महत्वपूर्ण नागरिक सम्मान है। यह सम्मान राष्ट्रपति भवन में धीरूभाई की तरफ से उनकी पत्नी कोकिलाबेन ने बेटों मुकेश और अनिल अंबानी की मौजूदगी में ग्रहण किया था।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *