लोगों को बहुत कम पता है दुनिया के इन 10 अनोखे द्वीपों का सच

दुनिया के कई ऐसे अनोखे द्वीप हैं जिसके बारे में लोगों को बहुत कम पता है। आज ऐसे ही 10 द्वीपों के बारे में बताने जा रहे हैं…
​सोकोत्रा द्वीप
यह आधिकारिक रूप से यमन का हिस्सा है। ऐसा लगता है कि इसका संबंध किसी दूसरे ग्रह से है। कुछ लोगों का मानना है कि भगवान ने धरती के पहले पुरुष आदम और पहली स्त्री हव्वा को बनाने के बाद यहीं रखा था। यह काफी समय से सुनसान है और कुछ ऐसे पौधे वहां उग गए हैं जो कहीं और नहीं पाए जाते हैं। वहां ड्रैगन ब्लड ट्री पाए जाते हैं जो देखने में छाते की तरह लगते हैं।
​गोकी आइलैंड
गोकी चीन के शेंगसी द्वीपसमूह के उन 18 द्वीपों में से एक था जहां आबादी थी। एक समय था जब गोकी द्वीप काफी समृद्ध गांव था। वहां मछुआरे रहा करते थे। बाद में मछुआरे द्वीप छोड़कर चले गए। उसके बाद यहां बने घरों पर हरियाली की परत ऐसी जम गई जो देखने में काफी सुंदर लगती है।
स्नेक आइलैंड
ब्राजील के इस आइलैंड का नाम स्नेक आइलैंड इसलिए पड़ा है क्योंकि वहां दुनिया के सबसे जहरीले सांपों में से एक पाया जाता है। यह स्थान इतना खतरनाक है कि ब्राजील सरकार ने वहां जाने पर पाबंदी लगा दी है।
मॉरीशस आइलैंड
हिंद महासागर में स्थित मॉरीशस आइलैंड काफी सुंदर स्थान है। इसके अनोखे प्राकृतिक संसाधन ने हैरान करने वाला भ्रमजाल पैदा किया है। बालू और तलछट के बहाव को ऊपर से देखकर ऐसा लगता है कि पानी के नीचे कोई झरना हो।
फोर्ट कैरल
यह एक कृत्रिम द्वीप है जिसे अमेरिकी सेना ने बनाया था। अभी यह निजी कब्जे में है। इसके मालिक ने यहां होटल, रेस्ट्रॉन्ट और कसिनो बनाकर इसे एक मनोरंजन स्थल के रूप में बदलना चाहा था लेकिन यहां बड़ी संख्या में पक्षियों के होने की वजह से उसने ऐसा नहीं किया।
वल्कन आइलैंड
फिलिपींस के उत्तर में एक झील है जिसका नाम ताल है। इस झील में एक द्वीप है जिसका नाम ताल वोलकेनो है। उस द्वीप के बीच में एक और झील है और उस झील के अंदर एक द्वीप है जिसका नाम वल्कन आइलैंड है। एक ज्वालामुखी के अंदर स्थित होने की वजह से यह काफी अनोखा द्वीप है।
​पाल्मीरा द्वीप
उत्तरी प्रशांत महासागर में स्थित पाल्मीरा दुनिया के सबसे सुनसान स्थानों में से एक है। देखने में तो यह धरती पर स्वर्ग जैसा लगता है लेकिन इसको लेकर कई अंधविश्वास जुड़े हुए हैं। इसके आसपास रहस्यमय तरीके से कई जहाज गायब हो गए। वहां जाने के लिए खास अनुमति लेनी पड़ती है।
अर्न्सट थॉलमैन आइलैंड
यह क्यूबा के पास एक छोटा द्वीप है। 1972 में क्यूबा के लीडर फिदेल कास्त्रो ने पूर्वी जर्मनी के लीडर एरिक हॉनेकर की यहां मेजबानी की थी और उसी दौरान इसका नाम अर्नस्ट थॉलमन के नाम पर रख दिया गया था। क्यूबा ने यह द्वीप जर्मन लोकतांत्रिक गणराज्य को उपहार के तौर पर दिया था। जब बर्लिन की दीवार गिरी और पश्चिमी एवं पूर्वी जर्मनी का एकीकरण हुआ तो इसका किसी दस्तावेज में जिक्र नहीं किया गया।
​क्लिपर्टन आइलैंड
प्रशांत महासागर में यह द्वीप सिर्फ 6 किलोमीटर वर्ग क्षेत्र में फैला हुआ है। इसके साथ एक दुखद घटना जुड़ी हुई है। करीब 1910 में यहां एक लाइटहाउस बनाया गया था और करीब 100 लोग रहते थे। हर 2 महीने पर जहाज वहां खाने और अन्य जरूरी चीजों की सप्लाई करते थे लेकिन मेक्सिको में सिविल वॉर के बाद इस द्वीप को भुला दिया गया। 1917 में वहां सिर्फ 3 महिलाएं और 8 बच्चे जीवित बचे थे जो बुरी तरह कुपोषण का शिकार थे। उनलोगों को अमेरिका के एक जहाज ने बचाया था।
बूवे आइलैंड
दक्षिण अटलांटिक महासगर में स्थित बूवे आइलैंड दुनिया का सबसे सुदूर आइलैंड है। इसे कई बार खोजा गया। पहली बार जेन बापतिस्ते चार्ल्स बूवे डे लोजियर ने इसे 1739 में देखा था। उसने सबको आकर बताया लेकिन ठीक से उसने जगह नहीं बताई थी जिस वजह से आइलैंड को कोई खोज नहीं पाया। बाद में 1808 में ब्रिटिश नागरिक जेम्स लिंडसे ने इसका पता लगाया और इसका नाम लिंडसे आइलैंड रख दिया। 17 साल बाद लिवरपूल ने इसका पता लगाया और इसका नाम लिवरपूल रख दिया। कई विवादों के बाद अंत में 1971 में इसकी खोज का क्रेड औपचारिक रूप से जेन बापतिस्ते को देने का फैसला किया गया और इसका नाम बूवे आइलैंड रखा गया।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »