पेन स्टेट यूनिवर्सिटी की Study: ऑफिस में कम तनाव महसूस करती हैं महिलाएं

बहुत से लोग अपने ऑफिस को स्ट्रेसफुल जगह मानते हैं और शाम के वक्त घर लौटने का इंतजार करते नजर आते हैं लेकिन इस फेमस belief के ठीक उलट अमेरिका के पेन स्टेट यूनिवर्सिटी में हुई एक Study के नतीजे बताते हैं कि कई लोग खासतौर पर महिलाएं, अपने घर की तुलना में ऑफिस में कम तनाव महसूस करती हैं। आप भी सोच रहे होंगे कि आखिर यह कैसे संभव है? तो यहां जानें, इस रिसर्च और Study के नतीजों के बारे में।
कैसे हुई स्टडी
अनुसंधानकर्ताओं ने Study में शामिल 122 प्रतिभागियों का पूरा सप्ताह कॉर्टिसोल यानी स्ट्रेस हॉर्मोन के लेवल की जांच की और साथ ही उन्हें दिन के अलग-अलग समय पर अपने मूड को रेट करने के लिए भी कहा। इस Study के नतीजे बताते हैं कि अपने वर्कप्लेस पर घर की तुलना में लोग कम तनाव में दिखे।
महिला बनाम पुरुष
इस विषय पर जब गहराई से जांच की गई तो अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि महिलाएं घर की तुलना में ऑफिस में ज्यादा खुश रहती हैं तो वहीं, पुरुष ऑफिस से ज्यादा घर पर खुश रहते हैं। अलग-अलग सामाजिक और आर्थिक बैकग्राउंड में भी यह परिणाम एक जैसे नजर आए।
क्या है इसका कारण
अनुसंधानकर्ताओं की मानें तो जॉब सैटिस्फैक्शन इसकी सबसे बड़ी वजह है। ऐसा देखने में आता है कि महिलाओं को जो जॉब पसंद नहीं आता वे उसे आसानी से बदल कर ऐसी जॉब करने लगती हैं जिसमें उन्हें खुशी मिलती है। वहीं पुरुषों की बात करें तो पुरुष अगर जॉब से संतुष्ट न हों तब भी वे उसमें बने रहते हैं।
वर्किंग मॉम कम स्ट्रेस्ड
इस Study में आगे बताया गया कि वर्किंग मदर यानी वैसी मांएं जो कामकाजी होती हैं उनमें उन महिलाओं की तुलना में तनाव कम होता है जिनके कोई बच्चे नहीं होते।
सबसे कम स्ट्रेस
क्या आप अंदाजा लगा सकते हैं कि आखिर दिन के किस वक्त लोग सबसे कम तनाव में रहे? इसका सही जवाब है वीकेंड। स्टडी में शामिल प्रतिभागियों ने वीकेंड के दौरान सबसे कम तनाव महसूस किया।
एक्सपर्ट्स की राय
इस स्टडी के बारे में एक्सपर्ट्स का कहना है कि ऑफिस में महिलाएं सिर्फ अपने काम पर फोकस करती हैं और इसलिए वे वहां कम तनाव महसूस करती हैं लेकिन जब वे घर लौटती हैं तो यहां आकर उन्हें घर के कामों में सेकंड शिफ्ट शुरू करनी पड़ती है और मल्टी-टास्किंग होना पड़ता है जिस वजह से उनका स्ट्रेस लेवल बढ़ जाता है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »