आतंकी कैंपों को बंद करने का पाकिस्‍तानी दावा सिर्फ धोखा: आर्मी चीफ

नई दिल्‍ली। बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान अब दुनिया को यह बताने में लगा है कि वह आतंकी कैंपों को बंद करा रहा है। आतंकियों के हमदर्द पाकिस्तान ने दावा किया है कि वह पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) में आतंकी कैंपों को बंद करा रहा है।
हालांकि भारत ने इसे पड़ोसी देश का धोखा और दिखावा माना है। आतंकी कैंपों को बंद करने की रिपोर्टों के बारे में पूछे जाने पर आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने साफ कहा कि पाकिस्तान ने आतंकी कैंप बंद किए हैं या नहीं, इसकी सत्यता जांचने का कोई तरीका नहीं है।
उन्होंने साफ कहा कि हम अपनी सीमाओं पर लगातार निगरानी रखना जारी रखेंगे। जनरल रावत के बयान से साफ है कि भारत अब पाकिस्तान के इस तरह के किसी भी दिखावे या धोखे की कार्यवाही में नहीं आएगा। दिलचस्प बात यह है कि पाकिस्तान पहले तो कहता रहा है कि उसकी सरजमीं पर आतंकियों को संरक्षण नहीं दिया जा रहा है और जब भी भारत और अमेरिका का दबाव बढ़ता है तो वह आतंकियों के खिलाफ कठोर ऐक्शन के दिखावे करता है।
आर्मी चीफ ने कहा कि आतंकी कैंप बंद हो रहे हैं या नहीं, हमारे लिए इसकी सत्यता की पुष्ट करना काफी मुश्किल है।
दरअसल, पाकिस्तान में एक दो आतंकी कैंप नहीं हैं। पीओके में पाकिस्तान ने आतंकियों के कई कैंप तैयार कर रखे हैं, जहां से हथियार और प्रशिक्षण देकर उन्हें जम्मू-कश्मीर में नापाक इरादों से भेजा जाता है।
मौलाना मसूद अजहर और हाफिज सईद जैसे खूंखार आतंकी पाकिस्तान की झूठ के उदाहरण हैं कि वह आतंकियों को किस तरह से खुली छूट दिए हुए हैं। मुंबई हमले का गुनहगार हाफिज पाकिस्तान के शहरों में घूमकर भारत के खिलाफ रैलियां करता है और जहर उगलता है। वह अक्सर पीओके आता-जाता रहता है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »