पाकिस्तान के गृह मंत्री ने न्यूज़ीलैंड टीम का दौरा रद्द करने को साज़िश करार दिया

इस्‍लामाबाद। पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख़ राशिद अहमद ने न्यूज़ीलैंड टीम का दौरा रद्द करने को साज़िश करार दिया है.
उन्होंने कहा कि न्यूज़ीलैंड का पाकिस्तान दौरा रद्द करने के पीछे साज़िश थी. बीते 18 साल में ऐसा पहली बार हुआ है, जब टीम ने अपना दौरा रद्द किया है.
एक सवाल के जवाब में शेख़ राशिद अहमद ने इसे साज़िश तो बताया लेकिन साजिशकर्ता का नाम बताने से इंकार कर दिया.
उन्होंने इसे क्षेत्र में शांति के प्रयासों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश बताया.
इस्लामाबाद में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए गृह मंत्री ने कहा कि न्यूज़ीलैंड टीम के सुरक्षा प्रभारी ने सुबह सरकारी अधिकारियों से बात की और उन्हें ख़तरे की आशंका जताई.
उन्होंने कहा कि जब अधिकारियों ने उनसे और ब्यौरा मांगा तो न्यूज़ीलैंड के सुरक्षा प्रभारी के पास बताने के लिए कुछ भी नहीं था.
अहमद ने कहा कि पाकिस्तान ने रावलपिंडी में होने वाले मैचों के लिए पाकिस्तानी सेना के विशेष सेवा समूह (एसएसजी), सैनिकों और 4000 पुलिसकर्मियों को तैनात किया था.
उन्होंने कहा, “हमने उन्हें दर्शकों के बिना मैच खेलने के लिए मनाने की भी कोशिश की लेकिन वे इसके लिए भी राज़ी नहीं हुए.”
गृह मंत्री ने कहा कि सरकार की टीम ने प्रधानमंत्री इमरान ख़ान से भी इस संबंध में संपर्क किया, जो वर्तमान में 20वें शंघाई सहयोग संगठन परिषद में भाग लेने के लिए दुशांबे में हैं.
गृह मंत्री ने बताया, “उन्होंने न्यूज़ीलैंड के प्रधानमंत्री (जैसिंडा अर्डर्न) को फ़ोन किया और उनके देश की टीम को पूरी सुरक्षा प्रदान करने का आश्वासन भी दिया. न्यूजीलैंड के प्रधानमंत्री ने कहा कि ख़तरे का कोई मुद्दा नहीं था.”
अहमद ने बताया कि हालांकि, अर्डर्न ने कहा कि न्यूजीलैंड सरकार को “खुफ़िया जानकारी मिली थी कि जब टीम स्टेडियम जाने के लिए बाहर निकलेगी तो उस पर हमला किया जा सकता है.”
उन्होंने कहा, “यह उनका निर्णय है. हमने टीम के लिए भारी सुरक्षा तैनात की थी. पाकिस्तान दुनिया में शांति चाहने वाले देशों में से है और यह दौरा एक साज़िश के माध्यम से रद्द कर दिया गया है.”
उन्होंने आगे कहा कि नेशनल क्राइसिस मैनेजमेंट सेल ने भी उन्हें दौरा रद्द नहीं करने के लिए मनाने की कोशिश की थी लेकिन वे सहमत नहीं हुए.
‘भारतीय मीडिया कर रहा है पाकिस्तान को बदनाम’
गृह मंत्री ने कहा कि न्यूज़ीलैंड की सुरक्षा टीम ने चार महीने पहले पाकिस्तान का दौरा किया था. यह दौरा अफ़ग़ानिस्तान से अंतर्राष्ट्रीय सेना की वापसी के लिए तय समय सीमा से कुछ महीने पहले ही तय हुआ था.
“हमारी किसी भी ख़ुफ़िया एजेंसी को किसी ख़तरे के बारे में कोई जानकारी नहीं है. पाकिस्तान इस क्षेत्र में एक प्रमुख भूमिका निभा रहा है और वे नहीं चाहते कि हम आगे बढ़ें.”
अहमद ने कहा कि भारतीय मीडिया पाकिस्तान को बदनाम कर रहा है लेकिन उसके मंसूबों को नाक़ाम कर दिया जाएगा.
उन्होंने जोर देकर कहा, “यहां हर क़ीमत पर शांति कायम रहेगी.”
इंग्लैंड टीम के आगामी दौरे के बारे में अहमद ने कहा कि वे अपना फ़ैसला खुद करेंगे.
उन्होंने आश्वासन दे हुए कहा कि उनके मंत्रालय की ओर से सभी तरह की तैयारी है. हमारे देश में क्रिकेट खिलाड़ियों के लिए सुरक्षा कोई मुद्दा नहीं है.
न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम को रावलपिंडी क्रिकेट स्टेडियम में पाकिस्तान के साथ मैच खेलना था लेकिन पहला मैच शुरू होने से कुछ मिनट पहले सुरक्षा चिंताओं को हवाला देते हुए टीम ने अपना दौरा रद्द कर दिया.
पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने एक बयान जारी कर कहा कि न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड ने पाकिस्तान बोर्ड को सूचित किया कि उन्हें “कुछ सुरक्षा अलर्ट” मिले हैं और इसलिए उन्होंने श्रृंखला को रद्द करने का फैसला किया है.
न्यूज़ीलैंड की टीम अब वहां से लौटने की तैयारी कर रही है. टीम की ओर से कहा गया है कि पाकिस्तान बेहतरीन मेज़बान है लेकिन टीम की सुरक्षा उनके लिए सर्वोपरि है.
न्यूज़ीलैंड की टीम 18 साल के बाद पाकिस्तान की धरती पर क्रिकेट खेलने आई है. दोनों टीमों के बीच रावलपिंडी में तीन एक दिवसीय मुक़ाबला खेला जाना था. इसके बाद लाहौर में पांच टी20 मैचों की सिरीज़ खेलने का कार्यक्रम भी था.
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *