कश्‍मीर पर अफवाह फैलाने वाले पाकिस्तान के 200 ट्विटर अकाउंट्स सस्‍पेंड

कश्‍मीर पर अफवाह फैलाने वाले पाकिस्तान के 200 अकाउंट्स को माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने अगले आदेश तक के लिए निलंबित किया. इसके बाद पाकिस्तान ने आरोप लगाया कि सोशल मीडिया कंपनी उसके साथ सौतेला व्यवहार कर रही है. हालांकि ट्विटर ने इन आरोपों को खारिज किया है.
पाकिस्तानी सेना ने कहा कि सोशल मीडिया पर कश्मीर मुद्दे के बारे में पोस्ट करने वाले अकाउंट को स्थगित किये जाने को लेकर पाकिस्तानी अधिकारियों ने ट्विटर और फेसबुक से संपर्क किया है.
भारतीय अधिकारियों ने नई दिल्ली में इस हफ्ते सोमवार को कहा था कि सुरक्षा एजेंसियों के अनुरोध के बाद कथित तौर पर जम्मू कश्मीर पर भारत विरोधी प्रचार करने वाले चार ट्विटर हेंडलों को निलंबित किया था. उन्होंने कहा था कि चार और सोशल मीडिया खातों को ऐसी ही गतिविधियों के चलते जल्द ही बंद किये जाने की उम्मीद है.
पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने रविवार को ट्वीट किया, ‘पाकिस्तान अधिकारियों ने कश्मीर का समर्थन करने वाले पाकिस्तानी अकाउंट को निलंबित किये जाने का मुद्दा ट्विटर और फेसबुक के समक्ष उठाया है.’
उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया खातों को फेसबुक और ट्विटर के क्षेत्रीय मुख्यालयों में काम कर रहे भारतीय कर्मचारियों की वजह से निलंबित किया गया है. गफूर ने कहा, ‘उनके (ट्विटर और फेसबुक के) मुख्यालय में भारतीय कर्मचारी इसका (खातों के निलंबन का) कारण हैं.’ उन्होंने लोगों से दोनों सोशल नेटवर्किंग साइट्स द्वारा निलंबित किये गए खातों के बारे में लोगों को जानकारी देने को कहा.
पाकिस्तान ने दिया यह बयान
भारत के जम्मू और कश्मीर की विशेष स्थिति को रद्द करने और दो केंद्र शासित प्रदेशों- जम्मू और कश्मीर, और लद्दाख में भारत के विभाजन के बाद पाकिस्तानियों ने विभिन्न सोशल मीडिया अकाउंट्स पर प्रतिक्रिया व्यक्त की.
इस बीच पाकिस्तान दूरसंचार प्राधिकरण (पीटीए) ने ट्विटर के क्षेत्रीय कार्यालय में खातों के निलंबन को लेकर शिकायत दर्ज कराई है.उन्होंने कहा हम इस मामले को एक बहुस्तरीय रणनीति के साथ ले जा रहे हैं. पीटीए ने क्षेत्रीय कार्यालय को [200]अकाउंट्स का उल्लेख करते हुए उनके निलंबन के लिए स्पष्टीकरण मांगा है. उन्होंने कहा कि हम नेशनल आईटी बोर्ड (NITB) के माध्यम से एक दीर्घकालिक रणनीति पर भी काम कर रहे हैं ताकि ऐसी स्थिति फिर से पैदा न हो.
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »