शी जिनपिंग से हाथ मिलाने पर घिरे पाकिस्‍तानी राष्‍ट्रपति अल्‍वी

इस्‍लामाबाद। कोरोना वायरस से जूझ रहे पाकिस्‍तान के राष्‍ट्रपति आरिफ अल्‍वी चीन यात्रा के दौरान राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग के साथ हाथ मिलाकर आलोचनाओं के घेरे में आ गए हैं।
कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए जब दुनिया ‘नमस्‍ते’ कर रही है, तब पाकिस्‍तानी राष्‍ट्रपति ने तमाम चेतावनियों को दरकिनार करते हुए हाथ मिलाया। वह भी उस चीन में, जहां से कोरोना वायरस की शुरुआत हुई थी।
पाकिस्‍तान इन दिनों कोरोना के कहर से जूझ रहा है और अब तक 304 लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं जबकि दो लोगों के मौत की पुष्टि हुई है।
दरअसल, चीन में कोरोना वायरस की शुरुआत के बाद अल्‍वी पहले ऐसे राष्‍ट्राध्‍यक्ष हैं, जिन्‍होंने चीन की आधिकारिक यात्रा की। अल्‍वी की भी यह पहली चीन यात्रा थी। चीन के साथ नजदीकी द‍िखाने के लिए वह इतना ज्‍यादा उत्‍साहित हो गए कि उन्‍होंने शी जिनपिंग से हाथ मिला लिया।
चीनी मीडिया ने भुनाई पाक राष्‍ट्रपति की यात्रा
चीनी अधिकारियों ने बाद में पाकिस्‍तान राष्‍ट्रपति और विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी और पाकिस्‍तानी प्रतिनिधिमंडल में शामिल अन्‍य लोगों का कोरोना टेस्‍ट किया जो नेगेटिव पाया गया है। कोरोना वायरस को लेकर चीन की अंतर्राष्‍ट्रीय छवि को काफी धक्‍का लगा है। अब चीनी मीडिया पाकिस्‍तानी राष्‍ट्रपति की यात्रा को खूब भुना रहा है। उन्‍हें चीन का ‘असली मित्र’ बताया जा रहा है। चीन की मीडिया में जहां अल्‍वी की शान में कसीदे कढ़े जा रहे हैं वहीं पर दुनियाभर में उनकी आलोचना हो रही है। इस बीच चीन से आने के बाद पाकिस्‍तानी राष्‍ट्रपति और विदेश मंत्री दोनों ही सेल्‍फ क्वारंटाइन कर लिया है। पाकिस्‍तानी राष्‍ट्रपति 5 दिन तक अलग रहेंगे।
‘अंतर्राष्‍ट्रीय दबाव पर पाक के साथ खड़ा रहेगा चीन’
इससे पहले चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने 17 मार्च को पेइचिंग में पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी के साथ वार्ता की। उन्होंने बल देते हुए कहा कि वर्तमान में कोविड-19 महामारी विश्व में फैल रही है। विभिन्न देशों को एक साथ मिलकर इसका मुकाबला करना चाहिए। चीन वैश्विक दायरे में महामारी के फैलाव को रोकने के लिए ज्यादा योगदान देने को तैयार है, और पाकिस्तान को समर्थन और सहायता देना चाहता है।
शी जिनपिंग ने कहा कि महामारी का प्रकोप फैलने की शुरुआत में पाकिस्तानी सरकार और विभिन्न सामाजिक तबकों ने चीन की सहायता के लिए यथा संभव सहायता दी है। इसके प्रति चीन पाकिस्तान का आभारी है। वर्तमान में चीन सरकार और चीनी जनता महामारी के खिलाफ लड़ाई में अंतिम व्यापक विजय की प्राप्ति के लिए प्रयासरत हैं। शी जिनपिंग ने बल देते हुए कहा कि चाहे अंतर्राष्ट्रीय स्थिति में परिवर्तन कैसा भी आ जाए, चीन सदैव द्दढ़ता के साथ पाकिस्तान के साथ खड़ा रहेगा।
शी जिनपिंग ने कहा कि चीन पाकिस्तान का अपनी राष्ट्रीय स्वतंत्रता, प्रभुसत्ता, प्रादेशिक अखंडता की रक्षा करने और अपनी राष्ट्रीय स्थिति के अनुसार, विकास के रास्ते पर आगे बढ़ने का समर्थन करता रहेगा। दोनों पक्षों को अहम क्षेत्रों और परियोजनाओं में सहयोग को आगे बढ़ाना चाहिए। उन्होंने कहा कि चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे कोबेल्ट एंड रोड के निर्माण की आदर्श परियोजना बनाई जाए। अंतर्राष्ट्रीय और क्षेत्रीय मामलों में संपर्क और समन्वय मजबूत किया जाए ताकि वैश्विक और क्षेत्रीय शांति, स्थिरता और सुरक्षा की समान रूप से रक्षा की जा सके। चीन टिड्डी आपदा के निपटारे के लिए पाकिस्तान का लगातार समर्थन करेगा।
पाक राष्‍ट्रपति ने चीन की तारीफों के पुल बांधे
वार्ता में अल्वी ने कहा कि आपदा के सामने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी और चीन सरकार ने अद्भुत नेतृत्वकारी शक्ति दिखाई है। चीनी जनता ने एकता के साथ बड़ी कोशिश की है। चीन के अनुभव दूसरे देशों के लिए सीखने योग्य हैं। कुछ एक शक्ति ने महामारी के बहाने से चीन को बदनाम किया, जिसकी मंशा जरूर विफल होगी। पाकिस्तान चीन का साथ देता रहेगा, आतंक-रोधी क्षेत्र में सहयोग को निरंतर आगे बढ़ाना चाहता है, ताकि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में न्याय और निष्पक्षता को समान रूप से रक्षा की जा सके।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *