पाकिस्‍तानी Media ने ही खोल दी इमरान सरकार की पोल

इस्लामाबाद। पुलवामा आतंकी हमले की साजिश अपनी धरती पर रचे जाने से अब तक इंकार कर रहे पाक की पोल वहां के Media ने ही खोल दी है। आतंकी संगठनों की मौजूदगी को लेकर पाकिस्तान के प्रतिष्ठित अखबार डॉन ने अहम टिप्पणी करते हुए कहा है कि जमात-उद-दावा पर बैन लगाना ही काफी नहीं है। उसके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जानी चाहिए।
डॉन ने अपने संपादकीय में लिखा कि देश के सैन्य और नागरिक नेतृत्व की ओर से जमात-उद-दावा और उसके चैरिटी संगठन पर बैन लगाने के फैसला अद्भुत है।
अखबार ने लिखा कि निसंदेह जमात-उद-दावा लश्कर-ए-तैयबा का नया अवतार है और उन आतंकी संगठनों में से एक है, जो पाक की धरती पर फल-फूल रहे हैं।
इसके साथ ही अखबार ने लिखा कि जमात-उद-दावा पर सिर्फ प्रतिबंध लगाने का ऐलान करना ही काफी नहीं है। यदि सरकार के पास उसके आतंकवाद में शामिल होने को लेकर सबूत हैं तो तथ्यों के साथ कानूनी कार्यवाही करनी चाहिए ताकि जमात के नेतृत्व को सजा दिलाई जा सके।
अखबार ने साफ शब्दों में लिखा कि बीते दो दशकों में कई बार ऐसा हुआ है, जब आतंकी संगठनों पर प्रतिबंध लगाया गया लेकिन वे जल्दी ही नए नाम से फिर वापस आ गए। हिंसा का ढांचा एक बार फिर से शुरू हो गया। अखबार ने लिखा, ‘2002 में मुशर्रफ के दौर में आतंकी संगठनों पर प्रतिबंध लगाए गए लेकिन इसका भी कुछ खास असर नहीं हो सका और वे फिर सक्रिय हो गए।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *