भारत के साथ तनाव को कम करने के लिए पाकिस्‍तान ने जापान से मदद मांगी

इस्लामाबाद। पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत के आक्रामक तेवर से पाकिस्तानी की सारी हेकड़ी निकल गई है। भारत को हैरान कर देने वाली कार्यवाही की धमकी देने वाला पकिस्तान अब भारत के साथ तनाव कम करने के लिए गिड़गिड़ा रहा है। अब उसने जापान से भारत के साथ तनाव को कम करने में मदद की गुहार लगाई है।
विदेश मंत्री कुरेशी ने जापान की यात्रा टाली
पुलवामा हमले के बाद पैदा हुए हालात के बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरेशी ने जापान की अपनी यात्रा टाल दी है। उन्होंने जापान के विदेश मंत्री तारो कोनो को फोन कर बताया कि मौजूदा हालात के चलते वह देश छोड़कर आने में असमर्थ हैं।
उन्होंने कोनो से यह भी अनुरोध किया कि वह भारत के साथ तनाव को कम करने में मदद करें। कुरेशी जानते हैं कि जापान भारत का मित्र देश है। कोनो से कुरेशी ने कहा कि उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासचिव से भी तनाव कम करने में भूमिका निभाने का अनुरोध किया है। उनसे भी वह यही अनुरोध कर रहे हैं। कुरेशी 24-27 फरवरी के बीच जापान की यात्रा पर जाने वाले थे।
चीन से भी मदद की गुहार 
कुरेशी ने सोमवार को चीन के विदेश मंत्री वांग यी को भी टेलीफोन कर उन्हें तनावपूर्ण हालात के बारे में बताया। पाक विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि चीनी विदेश मंत्री ने पाकिस्तान के प्रयासों की सराहना की है। साथ ही कहा है कि तनावपूर्ण हालात का क्षेत्र की सुरक्षा और शांति पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा।

चीन बोला, दोनों देश संयम बरतें 

चीन की यह टिप्पणी तड़के पाकिस्तान में आतंकी गुट जैश-ए-मोहम्मद के सबसे बड़े शिविर पर भारतीय लड़ाकू विमानों के हमले के कुछ घंटे बाद आई है। पाकिस्तान में आतंकवादी शिविरों पर भारत के हवाई हमलों के संबंध में चीन की प्रतिक्रिया पूछे जाने पर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने मीडिया से कहा, “हमने संबंधित खबरों को देखा है।”
उन्होंने कहा, “मैं कहना चाहता हूं कि भारत और पाकिस्तान दक्षिण एशिया में दो महत्वपूर्ण देश है। दोनों के बीच मधुर संबंध और सहयोग दोनों देशों के हित में है और दक्षिण एशिया में शांति और स्थिरता के लिए भी अहम है।” उन्होंने कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि भारत और पाकिस्तान संयम बरतेंगे तथा अपने द्विपक्षीय रिश्तों को परस्पर और मजबूत करेंगे।”
पुलवामा में 14 फरवरी को आत्मघाती आतंकी ने विस्फोट से भरी गाड़ी को सीआरपीएफ के काफिले में टकरा दिया था। जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश ए मुहम्मद ने हमले की जिम्मेदारी ली थी। तब से भारत-पाक के बीच तनाव बढ़ गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा हमले का बदला लेने के लिए सेना को पूरी छूट देने के एलान ने पाकिस्तान की हालत पतली कर दी है।
हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाकिस्तान
पाकिस्तान एक तरफ भारत के साथ शांति की बात करता है। भारत के साथ तनाव कम करने के लिए दुनिया से मदद की गुहार लगा रहा है और दूसरी तरफ तनाव बढ़ाने वाली हरकतें कर रहा है। पाकिस्तान की सीनेट या संसद के उच्च सदन ने सोमवार को सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित कर पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत की ओर से धमकी दिये जाने का आरोप लगाते हुए इसकी निंदा की। पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के रजा जफर-उल-हक ने प्रस्ताव पेश किया, जिसमें हमले की जांच में भारत को सहायता देने की पेशकश के इमरान खान सरकार के रुख की सराहना की गयी है।
नहीं मिली अमेरिका सहि‍त प्रमुख देशों की मदद
हवाई हमले के बाद पाकिस्‍तान को अमेरिका समेत प्रमुख देशों की कोई मदद नहीं मिली है। सभी देशों ने पाकिस्‍तान को आतंकवाद को खत्‍म करने के लिए कहा है।
संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में अमेरिका की पूर्व राजदूत निक्की हेली ने पाकिस्तान को उसकी सरजमीं पर पल रहे आतंकियों को जल्द से जल्द खत्म करने की हिदायत दी है। उन्होंने कहा, ‘जब तक पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आता, तब तक उसे अमेरिका से मदद नहीं मिलनी चाहिए।’
वहीं ऑस्ट्रेलिया ने भी भारत की कार्यवाही का समर्थन किया है। ऑस्‍ट्रलिया ने कहा है कि पाकिस्तान से आतंकवादियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करने को कहा है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »