पाकिस्‍तान अब गैंगस्टर उज़ैर बलोच के साथ जोड़ रहा है जाधव का नाम

Pakistan is now connecting Jadhav's name with gangster Uzair Balochइस्लामाबाद। पाकिस्तान द्वारा भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव को भारतीय जासूस बताकर सजा-ए-मौत दिए जाने के ऐलान के बाद अब इस मामले में एक और नया मोड़ आया है। अब पाकिस्तान कराची के खतरनाक गैंगस्टर उज़ैर बलोच के साथ जाधव का नाम जोड़ रहा है। उज़ैर को पिछले साल जनवरी में पाकिस्तानी रेंजर्स ने कराची से गिरफ्तार किया था। 2 दिन पहले पाकिस्तानी सेना ने उसे अपनी हिरासत में ले लिया। पाक सेना अब यह दावा कर रही है कि उज़ैर पाकिस्तान के खिलाफ जासूसी करने में जाधव की मदद कर रहा था। हत्या जैसे अपराधों के अलावा उज़ैर पर ‘दुश्मन देशों के लिए जासूसी’ करने और पाकिस्तान-विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का भी आरोप है।
सबसे अहम पक्ष यह है कि पाकिस्तान ने उजै़र पर बलूचिस्तान में अलगाववादी संगठनों की मदद करने का भी आरोप लगाया है। उसका कहना है कि उज़ैर ने पाकिस्तान से अलग होने के लिए संघर्ष कर रहे बलोच संगठनों की मदद की। अब पाकिस्तान ने दावा किया है कि उज़ैर और जाधव का आपस में संपर्क था और वह जाधव की मदद कर रहा था। जाधव की ही तरह उज़ैर पर भी सैन्य अदालत में केस चलाया जाएगा।
जाधव का नाम उज़ैर से जोड़ने के पीछे क्या हो सकता है पाक का मकसद
उज़ैर पिछले 15 महीनों से पाकिस्तानी रेंजर्स की हिरासत में था। अब उसे सेना के हवाले कर दिया गया है। जिस पाकिस्तान आर्म्स ऐक्ट (PAA) के तहत जाधव पर केस चलाया गया, उसी कानून के तहत अब उज़ैर पर भी मामला दर्ज किया गया है। इतने लंबे समय बाद उज़ैर का नाम जाधव के साथ जोड़ने की पाकिस्तानी कोशिशों पर कई गंभीर सवाल उठ रहे हैं। पाकिस्तान ने जाधव के खिलाफ कोई भी ठोस सबूत पेश नहीं किया और ना ही उनके खिलाफ चल रहे केस से जुड़ी जानकारियां ही भारत के साथ साझा कीं। जाधव को सजा दिए जाने का ऐलान भी एकाएक किया गया।
ऐसे में आशंका है कि पाकिस्तान अब जानबूझकर जाधव का नाम उज़ैर से जोड़ रहा है। उसकी इन कोशिशों के पीछे उसकी यह मंशा साफ दिख रही है कि वह भारत पर बलूचिस्तान में अस्थिरता पैदा करने का आरोप लगाए और अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर इसे मुद्दा बनाए। जाधव के मामले में भी पाकिस्तान लंबे समय से यह झूठ बोल रहा है कि उन्हें बलूचिस्तान से गिरफ्तार किया गया। जाधव पर बतौर रॉ एजेंट बलूचिस्तान में अस्थिरता पैदा करने की साजिश में शामिल होने का भी आरोप लगाया गया। ऐसे में उज़ैर, जिस पर कि अलगावववादी बलोच संगठनों को समर्थन देने और उन्हें मजबूत बनाने का आरोप है, के साथ जाधव का नाम जोड़कर पाकिस्तान अपना अजेंडा साधने की कोशिश कर सकता है।
जनवरी 2016 में गिरफ्तार हुआ था उज़ैर बलोच
पिछले साल जब पाक रेंजर्स ने उज़ैर को गिरफ्तार किया, तो उन्होंने उसपर लयारी में हुए गैंगवॉर को अंजाम देने का आरोप लगाया था। पाकिस्तान के नजरिये से देखें, तो उज़ैर पर सबसे गंभीर अपराध यह है कि उसने कथित तौर पर अलगाववादी बलोच संगठनों की मदद की और उन्हें मजबूत करने का काम किया। अब उसे हिरासत में रखे जाने के करीब 15 महीने बाद पाकिस्तान उज़ैर का नाम जाधव से जोड़ रहा है। जानकारी के मुताबिक, रेंजर्स के हाथ लगने से पहले तक उज़ैर पाकिस्तान से भागा हुआ था। आरोप है कि साल 2013 में जब प्रशासन ने कराची में सक्रिय आपराधिक तत्वों के खिलाफ ऑपरेशन शुरू किया, तो उज़ैर देश छोड़कर भाग गया था। रेंजर्स का कहना था कि कराची शहर में घुसने की कोशिश करने के दौरान वह पकड़ा गया।
पाक जांच एजेंसी की रिपोर्ट: ईरानी खुफिया एजेंसी के लिए जासूसी करता था उज़ैर
ISPR के डायरेक्टर-जनरल मेजर जनरल आसिफ गफूर ने ट्वीट कर सेना द्वारा उज़ैर को अपनी हिरासत में लिए जाने की पुष्टि की है। उनके मुताबिक, उज़ैर ने ‘विदेशी खुफिया एजेंसियों को पाकिस्तान से जुड़ी संवेदनशील जानकारियां’ मुहैया कराईं।
ट्वीट में उन्होंने लिखा, ‘कुख्यात लयारी गैंगवॉर के सरगना उज़ैर बलोच के मामले की तहकीकात कर रही संयुक्त जांच टीम ने मार्च 2016 में अपनी जांच पूरी कर ली।’ पाकिस्तान के जियो टीवी की खबर के मुताबिक, JIT ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि उज़ैर ईरान की एक खुफिया एजेंसी के लिए जासूसी कर रहा था। इसी रिपोर्ट में कहा गया था कि उज़ैर पर सैन्य अदालत में मामला चलाया जाए।
Uzair Baloch taken into military custody under Pakistan Army Act / Official Secret Act-1923. (1 of 2)
—Maj Gen Asif Ghafoor (@OfficialDGISPR) April 11, 2017
कौन है उज़ैर बलोच
उज़ैर के पिता एक ट्रांसपोर्टर थे। साल 2009 में कराची के एक कुख्यात अंडरवर्ल्ड सरगना रहमान बलोच की पुलिस मुठभेड़ में हुई मौत के बाद हुए लयारी गैंगवॉर में उज़ैर का नाम आया। इसके बाद उसने अपने विरोधी गिरोहों का खात्मा कर करीब-करीब अपनी एकछत्र सत्ता बना ली। इसके बाद लयारी और इसके आसपास के इलाकों में उज़ैर के गैंग का नियंत्रण हो गया। उज़ैर पर कई हत्याओं का आरोप है। उसका नाम कई फिरौती की घटनाओं से भी जुड़ा है। इसके अलावा तस्करी और पुलिस पर हमला करने के भी मामलों में वह आरोपी है। पाकिस्तान ने उसपर विदेशी खुफिया एजेंसियों के लिए जासूसी का भी इल्जाम लगाया है। उसके ऊपर 100 से भी ज्यादा गंभीर अपराध के मामले दर्ज हैं।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *