पाकिस्‍तान ने फिर कहा, कश्‍मीर पर मध्‍यस्‍थता करें डोनल्‍ड ट्रंप

मुंबई। संयुक्‍त राष्ट्र सुरक्षा परिषद UNSC में कश्मीर मसले को चीन China द्वारा उठाए जाने में नाकाम होने के बाद भी पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा है कि वह कश्‍मीर मसले के हल के बगैर भारत के साथ शांति प्रक्रिया के लिए तैयार नहीं हैं।
यही नहीं, उन्‍होंने यह भी कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप को कश्मीर मसले को हल करने के लिए मध्यस्थता करनी चाहिए।
कुरैशी ने यहां सेंटर फॉर स्ट्रैटेजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज थिंक टैंक को संबोधित करते हुए कहा कि भारत के साथ शांति के लिए पाकिस्तान कोई भी कीमत चुकाने के लिए तैयार नहीं है। खासकर कश्मीर मसले को न्यायोचित तरीके से हल किए ब‍िना तो बिल्कुल भी नहीं। कुरैशी यहीं नहीं रुके, उन्‍होंने पाकिस्तान की मांग को दोहराते हुए कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को कश्मीर मसले को हल करने के लिए मध्यस्थता करनी चाहिए।
कुरैशी ने कहा कि मुल्‍क के आर्थिक सुधार और विकास के लिए हमें शांति की जरूरत है लेकिन हम भारत के साथ शांति के लिए कोई भी कीमत चुकाने के लिए तैयार नहीं हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि गरीबी और भुखमरी से लड़ने के बजाय भाजपा सरकार भारत को हिंदू राष्ट्र में बदलने की मुहिम शुरू कर दी है। हम कश्मीर मसले को हल करने में मध्यस्थता की राष्‍ट्रपति ट्रंप की पेशकश का स्वागत करते हैं। अपने भाषण में कुरैशी ने भारतीय पुलिस अधिकारी की हाल में हुई गिरफ्तारी का भी जिक्र किया।
उल्‍लेखनीय है कि पिछले साल पांच अगस्‍त को भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्‍छेद 370 को हटाते हुए उसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया था। इसके बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच संबंध और तनावपूर्ण हो गए थे। इसके बाद से पाकिस्‍तान इस मसले पर भारत के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय समर्थन जुटाने की कोशिश करता रहा है लेकिन उसके मंसूबे कामयाब नहीं हो सके हैं। अभी बीते बुधवार को ही पाकिस्‍तान ने अपने मित्र चीन के साथ मिलकर कश्मीर मुद्दे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद UNSC में ले जाने की कोशिश थी लेकिन विश्‍व शक्तियों ने उसे नाकाम कर दिया।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »