ओवैसी ने फिर जहर उगला: कहा, बाबरी ध्‍वंस को हम भूलने वाले नहीं

नई दिल्‍ली। संसद में आज प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी द्वारा राम मंदिर निर्माण के लिए सुप्रीम कोर्ट के आदेश अनुसार एक स्‍वायत्त ट्रस्‍ट का गठन किए जाने की सूचना देना AIMIM के चीफ असदुद्दीन ओवैसी को नहीं भाया।
ओवैसी ने एक ओर जहां इस घोषणा के समय पर सवाल उठाया वहीं दूसरी ओर यह भी कहा कि बाबरी मस्जिद के विध्वंस को हम भूलने वाले नहीं है।
यहां यह जान लेना जरूरी है कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या केस पर फ़ैसला सुनाते हुए केंद्र सरकार को मंदिर निर्माण के लिए तीन महीने का समय दिया था. ये मियाद नौ फरवरी को ख़त्म होने वाली थी।
इस सबके बावजूद ओवैसी का कहना है कि संसद का सत्र 11 फरवरी को समाप्त हो रहा है। यह घोषणा 8 फरवरी के बाद की जा सकती थी। ऐसा लगता है कि बीजेपी दिल्ली चुनावों को लेकर चिंतित है।
‘बाबरी कैसे टूटी, आने वाली पीढ़ियों को बताएंगे’
उन्होंने इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट को बाबरी मस्जिद को ढहाने के लिए जिम्मेदार ठहरा दिया।
ओवैसी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट अगर कार सेवा की इजाजत नहीं देता तो बाबरी मस्जिद नहीं टूटती।
उन्होंने कहा कि हम अपनी आने वाली पीढ़ी को बताएंगे कि बाबरी मस्जिद कैसे टूटी। ओवैसी ने कहा कि जिन लोगों ने बाबरी मस्जिद का ढांचा ढहाया था, उन्हें ही मंदिर बनाने का काम सौंपा जा रहा है। बाबरी मस्जिद के विध्वंस की कहानी आने वाली नस्लों को भूलने नहीं दिया जाएगा।
ओवैसी ने कहा, ‘बाबरी मस्जिद को न तो हम भूलेंगे और न आने वाली पीढ़ियों को भुलाने दिया जाएगा।’
कांग्रेस भी बोली, वोटों की खेती कर रहे हैं मोदी
उधर, कांग्रेस ने भी पीएम मोदी पर निशाना साधा है। कांग्रेस नेता मधुसूदन मिस्त्री ने कहा कि पीएम मोदी वोटों की खेती कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक समुदाय विशेष को टारगेट करके मुद्दे उठाए जा रहे हैं। हालांकि उन्होंने साथ ही साफ किया कि इसका असर दिल्ली चुनाव पर नहीं पड़ेगा।
उन्होंने कहा कि राम मंदिर एक चुनावी मुद्दा तो था लेकिन सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद यह खत्म हो चुका है। उन्होंने कहा कि बीजेपी अब सीएए और एनआरसी जैसे मुद्दे ले आई है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *