पाकिस्तान में शरिया स्थापित न होने तक जारी रहेगा हमारा संघर्ष: TTP

तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान TTP ने पाकिस्तान सरकार के माफी के प्रस्ताव को यह कहते हुए खारिज कर दिया है कि उसका संघर्ष तब तक जारी रहेगा जब तक कि देश में शरिया स्थापित नहीं हो जाता। टीटीपी ने पाकिस्तानी सुरक्षा बलों से माफी मांगने को भी कहा।
सबसे खूंखार आतंकवादी संगठनों में से एक ने कहा, जहां तक माफी की बात है, तो गलतियों के लिए माफी मांगी जाती है। हमें अपने संघर्ष पर गर्व है, हमने अपने दुश्मनों से कभी माफी नहीं मांगी।
यह पहले बताया गया था कि पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने पेशकश की थी कि यदि टीटीपी हिंसा को त्याग देता है, राज्य की रिट को स्वीकार करता है और संविधान के प्रति प्रतिबद्ध है, तो वह प्रतिबंधित टीटीपी के सदस्यों को ‘क्षमा देने के लिए तैयार’ होंगे।
कुरैशी ने राज्य द्वारा संचालित एपीपी वायर सेवा को बताया, अगर वे (टीटीपी) कानून को अपने हाथ में नहीं लेते हैं और आतंकवादी गतिविधियों में शामिल नहीं होते हैं और वे सरकार और पाकिस्तान के संविधान के रिट के सामने आत्मसमर्पण करते हैं, तो हम उन्हें क्षमा करने के लिए तैयार हैं।
पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक अशांत प्रांत खैबर पख्तूनख्वा (केपी) के उत्तरी और दक्षिणी हिस्सों के कई हिस्सों में पाकिस्तानी सेना और टीटीपी के बीच पिछले दो सप्ताह से भारी लड़ाई जारी है। टीटीपी की धमकी के कारण न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम दौरे से पीछे हट गई और पाकिस्तान छोड़ने का फैसला किया।
पाकिस्तानी सेना के अनुसार पिछले 24 घंटों में अफगानिस्तान की सीमा से लगे पाकिस्तान के अशांत उत्तर-पश्चिमी कबायली इलाकों में एक मुठभेड़ में सात सैनिक और पांच आतंकवादी मारे गए हैं। लेकिन आतंकवादी समूह ने कहा था कि उन्होंने पांच जगहों पर हमला किया है जिसमें 12 सुरक्षाकर्मी मारे गए हैं।
हाल ही में इस संगठन ने पाकिस्तानी मीडिया को कड़ी चेतावनी देते हुए इसे आतंकवादी संगठन कहने से परहेज करने को कहा है। समूह द्वारा जारी एक पत्र में कहा गया है, हम पाकिस्तानी मीडिया पत्रकारों और मीडिया घरानों से टीटीपी और पाकिस्तानी सुरक्षा बलों के बीच चल रहे युद्ध में अपने पूर्वाग्रह को रोकने का आह्वान करते हैं।
हमारे नामों में ‘आतंकवादी’ और ‘चरमपंथी’ जैसे शीर्षकों का उपयोग किया जाता है। यह मीडिया के जानबूझकर पूर्वाग्रह को दर्शाता है। पाकिस्तानी शासकों ने तालिबान से समूह पर लगाम लगाने के लिए कहा है लेकिन उन्हें बताया गया कि टीटीपी तालिबान की समस्या नहीं है और उन्होंने पाकिस्तानी शासकों से इसे स्वयं हल करने के लिए कहा।
अफगान तालिबान के प्रति निष्ठा का वचन देते हुए टीटीपी के नेताओं ने पाकिस्तान को धमकी दी है और पाकिस्तान में एक खुलफत प्रणाली और शरिया स्थापित करने की कसम खाई है। टीटीपी प्रमुख नूर वली महसूद ने कहा है कि उनके संगठन को पाकिस्तानी सेना के हमलों से खुद को बचाने के लिए अफगानिस्तान की धरती की जरूरत नहीं है।
महसूद ने हाल ही में एक साक्षात्कार में कहा, हम अभी भी अपनी धरती से पाकिस्तानी सेना के साथ लड़ रहे हैं। हम कबायली क्षेत्र पर नियंत्रण करने और इसे एक स्वतंत्र क्षेत्र बनाने की उम्मीद कर रहे हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *