World Health Day पर आगरा में स्‍वास्‍थ मेले का आयोजन

Organizing a Health Fair in Agra on World Health Day
World Health Day पर आगरा में स्‍वास्‍थ मेले का आयोजन

आगरा। खन्दारी स्थित जेपी सभागार में आज एक स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया गया। जिसकी मुख्य विषयवस्तु ‘अवसाद- आओ बात करें’ थी। यह प्रोगाम राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिषन उत्तर प्रदेष द्वारा राष्ट्रीय सेवा योजना, वल्र्ड डायबटिज फाउण्डडेषन, डा0 भीमराव अम्बेडकर विष्वविद्यालय, आगरा के सम्मिलित प्रयासों के द्वारा आयोजित किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता माननीय कुलपति डा0 अरविन्द कुमार दीक्षित जी ने की। मुख्य अतिथि के रूप में पद्मश्री प्रो0 डी0के0हाजरा, डा0 बी0एस0यादव, सी0एम0ओ0, अतिरिक्त निदेषक स्वास्थ्य आगरा मण्डल डा0 ए0के0 मित्तल, डा0 पियूष जैन, डा0 सुबोध कुमार, डा0 सुनील वंसल, डा0 एस0पी0गुप्ता एवं डा0 यू0के0 त्रिपाठी थे।
कार्यक्रम का शुम्भारम्भ माॅ सरस्वती के प्रतिमा पर माल्यापर्ण एवं द्वीप प्रज्वलन के साथ हुआ। अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में कुलपति माननीय डा0 अरविन्द कुमार दीक्षित ने बताया कि अपने कर्म पर ध्यान केन्द्रित करके तथा मस्तिष्क पर नियंत्रण रखकर बिना परिणाम के चिन्ता किए कार्य करते रहने से व्यक्ति कभी अवसादग्रस्त नही होता है। अपने जीवन के अनुभव से उनका कहना था कि तीन महीने के अन्दर अवसादग्रस्त विष्वविद्यालय उन्नति के पथ पर अग्रसर हो गया हैै। कार्यक्रम में उपस्थित विषिष्ट अतिथियों का स्वागत करते हुए इंजीनियरिंग संस्थान के निदेषक डा0 वी0के0सारस्वत ने बताया कि आज के युग में युवाओं को अवसाद मुक्त होकर अध्ययन करते हुए अपने लक्ष्य की ओर बढना चाहिऐ। उन्होने बताया कि छियासी मिलियन लोग साउथ एषिया में अवसाद से ग्रस्त है।
कार्यक्रम की विषयवस्तु ‘अवसाद- आओ बात करें’ पर चर्चा को आगे बढाते हुए डा0 वी0एस0 यादव ने अवसाद मुक्ति के उपायों पर प्रकाष डाला, और बताया कि छोटी-छोटी बाते जैसे खानपान, जीवन शैली में नियन्त्रण रखकर अवसाद एवं मधुमेह जैसी खतरनाक बीमारियो से बचा जा सकता है। आगरा मण्डल के सुप्रसिद्व चिकित्सक पद्मश्री प्रो0 डी0के0हाजरा ने अवसाद जैसी गम्भीर बीमारी के लिये जींन-परिवर्तन को एक बडा कारण बताया उन्होने यह भी बताया कि अवसाद एवं मधुमेह यह दोनो बीमारियों का इलाज चिकित्सकों को आपसी परामर्ष से करना चाहिए, उन्होने अहवान किया कि चिकित्सकों को इस क्षेत्र में शोध करने की आवष्यकता है।
कार्यक्रम की कडी में चिकित्सक डा0 पियूष जैन ने युवाओं को सीख दिया की कि भागिये, दौडिये, जागिये और अपने से प्यार कीजिए। इस तरह की जीवन शैली से अवसाद मुक्त रहेगे और स्वस्थ रहेगे।
डा0 सुनील बंसल ने कार्यक्रम में एक चित्रण के द्वारा अवसाद एवं मधुमेह के आपसी सम्बधों के बारे में जानकारी दी। और युवाओं को सचेत किया कि नषापान, धूम्रपान, तम्बाकू एवं चिंता करने से बचकर स्वस्थ जीवन प्राप्त किया जा सकता है। कार्यक्रम के विषयवस्तु पर बोलते हुए मनोचिकित्सक डा0 एस0पी0गुप्ता ने युवाआंे को आपस में खुलकर बातचीत करने व्यायाम एवं सांस्कारिक जीवन शैली अपनाकर अवसाद से मुक्त रह सकते है। कार्यक्रम में ब्लड कनैक्ट संस्था द्वारा डा0 हरेन्द्र यादव के संयोजन में रक्त-दान षिविर का आयोजन किया गया। इसमें छात्रों ने 61 यूनिट रक्त का दान किया। इसका संचालन सुबोध शर्मा, पूजा, योगेष, अभिजीत, नमन, रजत, प्रतीक, लोबिना और सौम्या ने किया।
एन0एस0एस0 की टीम ने मानव श्रृंखला का निर्माण कर स्वस्थ रहने का संदेष दिया। इसका संचालन डा0 आर0वी0एस0 चैहान, डा0 लक्ष्मन सिंह ने धमेन्द्र एवं मोहित के सहयोग से किया।
स्वास्थ्य मेले में मधुमेह जाॅच, रक्तचाप की जाॅच, बी0एम0आई0 जाॅच के अतिरिक्त अवसाद से बचने की काउन्सलिंग की। इसकी देखरेख डा0 मुकेष वघेल, डा0 सुनील कुमार, डा0 शालिनी शर्मा, डा0 रेखा शर्मा एवं श्री मनीष गुप्ता ने की। इस कार्यक्रम में प्रमुख रूप से प्रो0 पी0एन0सक्सैना, प्रो0 भारती सिंह, प्रो0 राजेष धाकरे, प्रो0 आषा अग्रवाल, प्रो0 विनीता सिंह, डा0 एम0के0उपाध्याय, डा0 एस0के0जैन, डा0 एम0पी0सिंह, डा0 अर्चना सिंह आदि उपस्थित थे।
कार्यक्रम का संचालन डा0 नबावउद्दीन ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *