हिन्दी दिवस पर अमरनाथ विआ में कवि दरबार आयोजित

विद्यार्थियों ने हिन्दी के महान कवियों का स्वरूप धारण कर किया काव्य पाठ
मथुरा। जनपद की प्रमुख आवासीय शिक्षण संस्था अमर नाथ विद्या आश्रम में हिन्दी दिवस के अवसर पर भव्य कवि दरबार का आयोजन किया गया । विद्यार्थियों ने जब हिन्दी के महान कवियों का स्वरूप धारण कर काव्य पाठ किया तो श्रीमातृ आॅडिटोरियम का वातावरण बड़ा ही आलौकिक हो गया । इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मथुरा बार ऐसोसिएशन के अध्यक्ष संतोष कुमार शर्मा एडवोकेट को कौटिल्यश्री सम्मान से सम्मानित प्रदान कर अभिनन्दन किया गया। कार्यक्रम में सभी अतिथियों प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता अभियान से प्रेरित होकर विद्यार्थियों द्वारा हस्तलिखित ग्रन्थ ‘‘मेरे सपनों का स्वच्छ भारत’’ का विमोचन भी किया।

मथुरा बार ऐसोसिएशन के अध्यक्ष संतोष कुमार शर्मा ‘‘कौटिल्यश्री’’ सम्मान से सम्मानित

हिन्दी के सपूत कवि दरबार के मुख्य अतिथि संतोष कुमार शर्मा ने राष्ट्रभाषा हिन्दी को प्रणाम करते हुये विद्यार्थियों की काव्य शैली प्रशंसा करते हुये कहा कि संसार इन महान कवियों को रचनाओं को इन विद्यार्थियों के अतिरिक्त कोई प्रस्तुत नहीं कर सकता है । उन्होंने कहा कि हिन्दी भाषा से हमें जो संस्कार मिलते हैं वह किसी अन्य भाषा से मिल सकते हैं । उन्होंने शानदार कवि सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप बुलाने के लिये सभी का आभार व्यक्त किया ।

हिन्दी दिवस के अवसर पर आयोजित वरिष्ठ साहित्यकार पं. ललित कुमार वाजपेयी ‘उन्मुक्त’ ने विद्यार्थियों की काव्य शैली की प्रशंसा करते हुये कहा कि बच्चों ने जिस प्रकार महान कवियों के स्वरूप में उनकी रचनायें प्रस्तुत कीं, उससे ऐसा लगा मानों सभी कवि साक्षात अमर नाथ विद्या आश्रम के मंच पर आकर काव्य पाठ प्रस्तुत कर रहे हैं । उन्होंने कहा कि आज सारी दुनियां के लोग हिन्दी के प्रति आकर्षित हो रहे हैं ।

हिन्दी की गरिमा से विद्यार्थियों में हुआ जोश एवं उत्साह का संचार

अमरनाथ शिक्षण संस्थान के चेयरमैन डा. आदित्य कुमार वाजपेयी ने महान कवियों का रूप धारण काव्य पाठ प्रस्तुत करने वाले सभी कवियों की प्रशंसा की । उन्होंने हिन्दी भाषा के कवि स्व. प्रमोद तिवारी प्रसिद्ध एवं सारगर्वित कविताओं का भी पाठ किया । अमर नाथ गर्ल्‍स डिग्री काॅलेज के प्राचार्य डा. अनिल वाजपेयी एवं अमर नाथ विद्या आश्रम के प्रधानाचार्य डा. अरूण वाजपेयी, उप प्रधानाचार्य डा. अनुराग वाजपेयी ने सभी अतिथियों का माल्‍यार्पण एवं स्वागत किया ।

हिन्दी दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम ‘‘हिन्दी के सपूत – कवि दरबार’’ में विद्यार्थियों ने एक लघु नाटक प्रस्तुत किया, जिसमें छात्र शुभ गौतम ने भगवान सूर्यदेव हिन्दी की दुर्दशा पर व्यथित होते हैं, उनकी व्याकुलता दूर करने के लिये हिन्दी के स्वरूप में छात्रा बसुन्धरा ने हिन्दी भाषा के महान कवियों को आमन्त्रित करती हैं, जिसमें हिन्दी के सपूत – कवि दरबार की अध्यक्ष राजकवि चन्द्रबरदाई के स्वरूप में छात्र सुमित कुमार ने की तथा सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’ के स्वरूप में आयुष ने मां सरस्वती की वन्दना ‘वर दे वीणा दायिनी…’ प्रस्तुत कर कवि दरबार का शुभारम्भ करतेे हैं ।

कवि दरबार में कबीर दास के स्वरूप में छात्र शिवम नेे कविता ‘चुनरिया झीनी रे झीनी…’, भावना गौतम ने मैथिलीशरण गुप्त के रूप में, निकुंज ने कवि बिहारी लाल के स्वरूप में दोहे, हितेन्द्र ने महाकवि भूषण के स्वरूप में वीररस के कवित्त, प्रियांशु ने तुलसी के स्वरूप में भजन प्रस्तुत कर श्रोताओं की वाह-वाही लूटी । छात्र मयंक ने काका हाथरसी के रूप में हास्य-व्यंग की कवितायें सुना कर सभी को खूब गुदगुदाया, कवि प्रमोद तिवारी के स्वरूप में छात्र चितवन ने काव्य पाठ, सिद्धार्थ ने भारतरत्न कवि अटल बिहारी वाजपेयी के स्वरूप में कविता प्रस्तुत की । छात्रा इरफा खानम ने जब कवियत्री सुभद्र कुमारी चैहान के स्वरूप में कविता ‘मेरा बचपन…’ प्रस्तुत किया तो सभी श्रोताओं को अपना बचपन याद आ गया । विकास ने रसखान के स्वरूप में सवैैैयेे प्रस्तुत किये। छात्र प्रशांत ने कवि गोपाल प्रसाद नीरज के स्वरूप में कविदरबार का काव्यमय संचालन करते हुये । सभी अतिथियों ने विद्यार्थियों के उच्च स्तरीय काव्य पाठ के लिये साधुबाद दिया ।

कवि दरबार का निर्देशन पुनीत वाजपेयी ने किया तथा सहयोग डा. मधुबाला शर्मा, मृदुला चड्डा, केशव देव शास्त्री, कृष्णा अग्रवाल आदि ने विद्यार्थियों का मार्गदर्शन करके किया। कवियों की रूप सज्जा असलम खान ने की । इस अवसर पर एडवोकेट सतीश शर्मा, एडवोकेट सौरभ शर्मा, मीता, रेेेनू, शुभम, सुयश सहित सभी शिक्षक एवं विद्यार्थी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »