यूपी में लव जिहाद व धर्मांतरण के पीछे सिमी और पीएफआई जैसे संगठन: मोहसिन रजा

लखनऊ। यूपी के अलग-अलग जिलों से लगातार लव-जिहाद की आ रही शिकायतों के बीच योगी सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण राज्यमंत्री मोहसिन रजा का बयान आया है। मोहसिन रजा का आरोप है कि एक साजिश के तहत इस तरह की घटनाओं को बढ़ावा दिया जा रहा है। इसे रोकने के लिए अगर जरूरत पड़ी तो सरकार कानून लेकर आएगी।
लव जिहाद और धर्मांतरण की शिकायतों पर योगी सरकार के मंत्री मोहसिन रजा ने कहा कि सिमी और पीएफआई जैसे संगठन इसके पीछे हैं। उन्होंने वीडियो जारी करके कहा, ‘लव जिहाद और धर्मांतरण की काफी शिकायतें आ रही हैं। यह एक साजिश के तहत किया जा रहा काम है। भोली-भाली लड़कियों को प्रेम जाल में फंसाकर उनके साथ शादी करना, फिर उनका धर्मांतरण किया जा रहा है। उनसे कहा जा रहा है कि पहले आप कलमा पढ़िए मुसलमान हो जाइए, फिर क्रिश्चन हो जाइए, पहले आप धर्म परिवर्तन करिए, इसके पीछ बहुत बड़ी साजिश है।’
मंत्री ने बताया सिमी और पीएफआई जैसे संगठन का हाथ
मोहसिन रजा ने आगे कहा, ‘सिमी और हाल ही में पीएफआई का नाम भी इस तरह के मामले में आ चुका है। इनमें जो लोग जुड़े हैं बहुत शातिर किस्म के लोग हैं जो आतंकी संगठनों से जुड़े हुए हैं। इनको हमारे देश में तुष्टीकरण की राजनीति के तहत राजनीतिक पार्टियों का समर्थन मिल गया। इस साजिश का खुलासा होना चाहिए।’
धर्मांतरण के खिलाफ अध्यादेश लाने को तैयार योगी सरकार
मोहसिन रजा ने कहा, ‘इस तरह के मामलों को लेकर हमारी सुरक्षा एजेंसियां सतर्क है। उसी को लेकर आगे बढ़ रहे हैं। जो लोग भी दोषी होंगे उन्हें सजा दी जाएगी। अगर जरूरत पड़ी तो हम कानून लेकर आएंगे।’ बता दें कि योगी आदित्यनाथ सरकार राज्य में धर्मांतरण के खिलाफ कानून लाने की तैयारी में है। हाल ही में प्रदेश में लव जिहाद के सामने आए मामलों को ध्यान में रखते हुए प्रदेश सरकार ने यह फैसला लिया है।
कानपुर में 11 मामलों में चल रही जांच
बीते दिनों उत्तर प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों से कथित लव जिहाद के कई मामले सामने आए थे। अकेले कानपुर में 11 ऐसे मामलों में जांच चल रही है, जिसमें धोखे से धर्मांतरण के आरोप लगाए गए हैं। इसके अलावा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने भी अपने लखनऊ प्रवास के दौरान इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाया था। अपने दो दिन की लखनऊ यात्रा के दौरान उन्होंने लव जिहाद के बढ़ते मामलों पर चिंता जताई थी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *