Amazon के वर्षावन में आग बुझाने के लिए सेना भेजने का आदेश

ब्राज़ील के राष्ट्रपति ने Amazon के वर्षावन में लगी आग को रोकने के लिए सेना की मदद लेने के आदेश दिए हैं.
राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो ने एक आदेश जारी करते हुए प्रशासन को सीमाई, आदिवासी और संरक्षित इलाक़ों में सेना तैनात करने को कहा है.
ब्राज़ील के राष्ट्रपति ने यह घोषणा यूरोपीय नेताओं के दबाव के बाद की है.
दरअसल, फ़्रांस और आयरलैंड ने कहा था कि वह ब्राज़ील के साथ तब तक व्यापार सौदे को मंज़ूरी नहीं देंगे जब तक कि वह Amazon के जंगलों में लगी आग के लिए कुछ नहीं करता है.
फ़्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने कहा था कि ब्राज़ील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो ने जलवायु परिवर्तन पर उनसे झूठ कहा है.
इस समय Amazon के वर्षावन में भीषण आग लगी हुई है और इन जंगलों को दुनिया के ऑक्सीजन का मुख्य स्रोत माना जाता है.
पर्यावरण समूहों का कहना है कि यह आग बोलसोनारो की नीति से जुड़ी हुई है जिसे उन्होंने ख़ारिज किया है. वहीं, दूसरे यूरोपीय नेताओं ने भी Amazon के जंगलों में लगी आग पर चिंता जताई है.
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने इस आग को ‘दिल तोड़ने वाला बताते हुए कहा है’ कि यह ‘एक अंतर्राष्ट्रीय समस्या’ है.
उन्होंने कहा, “हम ऐसी हर संभव मदद के लिए तैयार हैं जिससे आग रोकी जा सकती है और जिससे पृथ्वी के सबसे बड़े चमत्कार को बचाया जा सकता है.”
जर्मन चांसलर एंगेला मर्केल ने आग को आपातकालीन स्थिति बताते हुए कहा कि यह सिर्फ़ ब्राज़ील के लिए न केवल चौंकाने वाला और भयंकर है बल्कि यह दूसरे देशों के साथ-साथ दुनिया को भी प्रभावित करेगा.
बोलसोनारो ने शुक्रवार को कहा कि वह आग से लड़ने के विकल्पों पर विचार कर रहे हैं और इसके लिए वह सेना को भी उतारने का विचार कर रहे हैं.
हालांकि, उन्होंने मैक्रों पर आरोप लगाया कि वह ‘राजनीतिक लाभ’ के लिए हस्तक्षेप कर रहे हैं. इससे पहले उन्होंने कहा था कि फ़्रांस में जी-7 सम्मेलन हो रहा है जिसमें ब्राज़ील भाग नहीं ले रहा है और उसमें आग पर चर्चा ‘एक अनुपयुक्त औपनिवेशिक मानसिकता’ को दिखाता है.
आग को लेकर दुनियाभर में प्रदर्शन
फ़िनलैंड के वित्त मंत्री ने कहा है कि यूरोपीय संघ को ब्राज़ील के बीफ़ आयात पर प्रतिबंध लगाने के बारे में सोचना चाहिए.
इस समय फ़िनलैंड यूरोपीय संघ के परिषद का अध्यक्ष है और यह भूमिका हर छह महीने बाद सदस्य देश को मिलती है.
वहीं, पर्यावरण समूहों ने आग से लड़ने की मांग करते हुए शुक्रवार को ब्राज़ील के कई शहरों में विरोध प्रदर्शन भी किए.
इसके साथ ही लंदन, बर्लिन, मुंबई और पेरिस में ब्राज़ील दूतावास के बाहर कई लोगों ने भी विरोध प्रदर्शन किए.
कितना महत्वपूर्ण व्यापार सौदा?
ईयू-मेर्कोसुर नामक इस व्यापार सौदे को अब तक यूरोपीय संघ के सबसे बड़े व्यापार सौदों में से एक बताया जा रहा है.
दक्षिण अमरीकी गुट के साथ इस सौदे को होने में 20 साल का समय लगा है. इस गुट में अर्जेंटीना, ब्राज़ील, उरुग्वे और पराग्वे शामिल हैं.
वस्तुओं के व्यापार में यूरोपीय संघ मेर्कोसुर का दूसरा सबसे बड़ा साझेदार है. 2018 में यूरोपीय संघ के कुल निर्यात में मेर्कोसुर को किया गया निर्यात 2.3 फ़ीसदी था.
दोनों देशों के बीच कई चीज़ों का लेन-देन होता है जिनमें दक्षिण अमरीकी देशों से खाद्य, शराब, तंबाकू और कृषि उत्पाद जाते हैं. वहीं, यूरोपीय संघ से मशीनें, रासायन और अन्य दवाइयां जाती हैं.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »