प्रधानमंत्री Modi के कुंभ स्‍नान और पाद प्रक्षालन से विपक्ष विचलित, किए कटाक्ष

प्रधानमंत्री नरेंद्र Modi के कुंभ में डुबकी लगाने और सफाईकर्मियों के पैर धोने को लेकर विपक्ष ने बीजेपी पर निशाना साधा है। मायावती से लेकर अखिलेश और यूपी कांग्रेस प्रमुख राज बब्बर ने इसे चुनावी चाल करार दिया है। बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) सुप्रीमो मायावती ने तंज कसते हुए कहा कि कुंभ में डुबकी लगाने से पाप नहीं धुलेंगे। वहीं, अखिलेश यादव ने पीएम नरेंद्र मोदी के साथ-साथ मीडिया पर भी हमला बोला।
मायावती ने कहा कि संगम में शाही स्नान करने Modi सरकार की जनता के साथ की गई वादाखिलाफी के पाप नहीं धुलेंगे। जीएसटी और नोटबंदी की मार झेल रही जनता इतनी आसानी से सरकार को माफ नहीं करेगी। मायावती ने अपने ट्विटर हैंडल से लिखा, ‘चुनाव के समय संगम में शाही स्नान करने से Modi सरकार की चुनावी वादाखिलाफी, जनता से विश्वासघात और अन्य प्रकार की सरकारी जुल्म-ज्यादती व पाप क्या धुल जाएंगे?’
उन्होंने आगे लिखा, ‘नोटबंदी, जीएसटी, जातिवाद और द्वेष और साम्प्रदायिकता आदि की जबरदस्त मार से त्रस्त लोग क्या बीजेपी को इतनी आसानी से माफ कर देंगे?’ वहीं समाजवादी पार्टी (एसपी) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा, ‘केवल डुबकी लगाने या किसी और आयोजन से सफाई हो पाएगी क्या? देश तभी साफ होगा जब लोग संपन्न हो, किसान संपन्न हो।’
अखिलेश ने मीडिया और पीएम Modi पर कसा तंज
यही नहीं अखिलेश ने ट्विटर के माध्यम से पीएम नरेंद्र Modi और मीडिया पर निशाना साधते हुए कहा कि कश्मीर, अरुणाचल प्रदेश और असम का मुद्दा उठाया। उन्होंने मीडिया पर सवाल उठाते हुए कहा कि कुंभ दौरे में जरूरी मुद्दों से ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है। अखिलेश ने ट्वीट किया, ‘कश्मीर का जलना… असम में शराब से लोगों का मरना… और अरुणाचल का सुलगना.. खबरों को भी इसकी खबर नहीं… क्योंकि वो किसी के ‘पाद प्रक्षालन’ में चारण बनकर स्तुतिगान में व्यस्त हैं… अब लगता है चौथा स्तंभ हो गया ध्वस्त है।’
राज बब्बर ने कहा, नई-नई पूजा निकाल रहे हैं
वहीं यूपी कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर ने पीएम मोदी के सफाईकर्मियों के पैर धुलने पर कहा, ‘यह परंपरा पुरानी है, कन्याओं का पूजन होता है। ये नई-नई पूजा निकाल रहे हैं। यह आरएसएस का हिंदुत्व है। सोशल मीडिया पर उनका मजाक उड़ना भी शुरू हो चुका है। इससे अच्छा होता कि उन लोगों के लिए अच्छे कपड़े दे देते।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »