हेरोइन से बेहतर है अफीम, पंजाब में मिले कानूनी मान्‍यता: सिद्धू

चंडीगढ़। अपने बयानों से अक्सर सुर्खियां बटोरने वाले कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू एक बार फिर नए विवाद में फंसते नजर आ रहे हैं। इस बार सिद्धू ने पंजाब में नशे को लेकर विवादित बयान दिया है। सिद्धू ने कहा है कि अफीम हेरोइन से बेहतर होती है और पंजाब सरकार को इसे प्रदेश में कानूनी मान्यता दे देनी चाहिए। सबको चौंकाते हुए सिद्धू ने सार्वजनिक रूप से यह भी कहा कि उनके चाचा भी अफीम खाते थे।
सिद्धू ने कहा, ‘धर्मवीर सिंह बहुत ही अच्छा काम कर रहे हैं, मैं उनका समर्थन करता हूं। मेरे चाचा भी अफीम को दवा के तौर पर इस्तेमाल करते थे और उन्होंने लंबी जिंदगी जी।’ बता दें कि पाटियाला से आम आदमी पार्टी के सांसद धर्मवीर सिंह इन दिनों अफीम को कानूनी मान्यता देने के लिए मुहिम छेड़े हुए हैं।
डीजीपी की मौजूदगी में दिया बयान
सिद्धू का यह बयान उस समय आया है जब उत्तर-भारतीय राज्य में नशीली दवाओं के खिलाफ एक उग्र आंदोलन चल रहा है। पंजाब विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने इसे जोर-शोर से उठाया था। सिद्धू ने कहा, ‘पंजाब में अफीम उगाई जानी चाहिए।’ हैरानी की बात यह है कि सिद्धू ने पंजाब के डीजीपी सुरेश अरोड़ा की मौजूदगी में यह बयान दिया।
बता दें कि पंजाब में मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह सरकार की इस समय प्रदेश से नशे के जाल को खत्म करना प्राथमिकता है। प्रशासन इसके लिए पूरजोर कोशिश कर रहा है। सीएम की ओर से पड़ोसी राज्यों हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और राजस्थान से भी अनुरोध किया है कि पंजाब की नशे के खिलाफ इस लड़ाई में मदद करें।
राजनाथ से भी मदद की अपील
सीएम की ओर से कंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से भी अपील की गई थी कि नशे के तस्करों और पेडलर्स के लिए प्रदेश में कोई भी सुरक्षित स्थान न हो। सरकार की ओर से प्रदेश के नशे के दुष्चक्र से बचाने के लिए कई अहम फैसले लिए गए हैं। पुलिसकर्मियों समेत सभी सरकारी कर्मचारियों के लिए डोप टेस्ट अनिवार्य कर दिया है। कर्मचारियों की नियुक्ति के समय और उसके बाद सेवाकाल के दौरान अलग-अलग समय पर डोप टेस्ट अनिवार्य होगा। पंजाब सिविल सेवा और पुलिस सेवा के अधिकारियों को भी वार्षिक मेडिकल टेस्ट में डोप टेस्ट संबंधित रिपोर्ट लगानी जरूरी है।
हाल ही में राज्य सरकार ने नशे के तस्करों के दोषियों के लिए मौत की सजा का प्रावधान किया है। नशे के आदी लोगों के लिए फ्री इलाज दिया जा रहा है। इसके लिए नशा मुक्ति केंद्र खोले गए हैं। पुलिस से नशे के आदी लोगों के परिवार वालों को न परेशान करने का आदेश दिया गया है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »