महिला की तेरहवीं पर उसके जेठ ने लोगों को बांटे हेलमेट

पुणे। एक 47 वर्षीय महिला की सड़क हादसे में मौत हो गई थी। वह बिना हेलमेट लगाए स्कूटी चला रही थी। महिला की तेरहवीं पर उसके जेठ ने महिला की याद में लोगों को हेलमेट बांटे। यह वाकया पुणे के बारामती स्थित करवागंज गांव का है। पुलिस में बतौर दरोगा तैनात एक शख्स ने अपनी रिश्तेदार की तेरहवीं पर 70 लोगों को हेलमेट बांटे।
महिला की बीते 10 फरवरी को सड़क हादसे में मौत हो गई थी। आमतौर पर तेरहवीं पर लोग पुजारी और ब्राह्मणों को बर्तन, घर के काम में आने वाली चीजें आदि देते हैं मगर हनुमंत बनकर ने कुछ अलग करने का सोचा।
‘पुजारियों और रिश्तेदारों की सलाह से लिया हेलमेट दान का फैसला’
हनुमंत ने बताया, ‘हाइवे पुलिसकर्मी होने के नाते मैंने कई रोड एक्सीडेंट देखे हैं। अधिकतर मामलों में बाइकसवार बिना हेलमेट के चल रहे होते हैं। इसी तरह के हादसे में जब मेरी रिश्तेदार की मौत हुई तो मैंने तय किया कि उनकी तेरहवीं को मैं एक खास संदेश देने का मौका बनाऊंगा। मैंने पुजारियों और परिवार वालों से बात की तो उन्होंने बताया कि दान में दी गई चीज दान लेने वाले के काम आनी चाहिए, फिर वह कुछ भी हो। मैंने तय किया कि ऐसे में हेलमेट से अच्छा दान कुछ हो ही नहीं सकता।’
हनुमंत की रिश्तेदार पूनम की मौत 10 फरवरी को एक सड़क हादसे में हुई थी। हनुमंत के छोटे भाई के सिर में भी गंभीर चोटें आई थीं। इससे महज 15 दिन पहले ही हनुमंत के 22 वर्षीय भतीजा भी एक सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल हुआ था। उसने भी हेलमेट नहीं लगाया था। वह अब भी अस्पताल में जिंदगी-मौत से जूझ रहा है।
’15 दिनों में दो हादसों से सदमे में है परिवार’
हनुमंत बनकर 37 सालों से मुंबई पुलिस की हाइवे पुलिस यूनिट में तैनात हैं। बारामती में उनकी जॉइंट फैमिली रहती है और इसमें कुल 22 सदस्य हैं। उन्होंने बताया, ‘हम किसी तरह पहले हादसे से उबर पाए थे मगर 15 दिनों के अंदर ही एक और हादसा हो गया जिसमें मेरे छोटे भाई की पत्नी की मौत हो गई। मेरा पूरा परिवार लगातार हुए इन दो हादसों से गहरे सदमे में है।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *