भारत में कोरोना के ओमिक्रोन वेरिएंट ने दी दस्तक: कर्नाटक से सामने आए दो मामले, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने हाईलेवल बैठक बुलाई

भारत में कोरोना के ओमिक्रोन वेरिएंट ने दस्तक दे दी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि देश में अब तक ओमिक्रोन वेरिएंट के दो मामले सामने आए हैं। ये दोनों मामले कर्नाटक से हैं। 66 साल और 46 साल के व्यक्तियों में ओमिक्रोन का संक्रमण पाया गया है। लगभग 29 देशों में अब तक ओमिक्रोन वेरिएंट के 373 मामले दर्ज किए गए हैं। लव अग्रवाल ने बताया कि ओमिक्रोन से जुड़े सभी मामलों में अब तक हल्के लक्षण पाए गए हैं। देश और दुनियाभर में ऐसे सभी मामलों में अब तक कोई गंभीर लक्षण नहीं देखा गया है। डब्ल्यूएचओ ने भी कहा है कि ओमिक्रोन के उभरते लक्षणों का अध्ययन किया जा रहा है।
आइसीएमआर के डीजी बलराम भार्गव ने बताया कि स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा स्थापित 37 प्रयोगशालाओं के INSACOG के जीनोम अनुक्रमण प्रयास के माध्यम से कर्नाटक में अब तक ओमिक्रोन के दो मामलों का पता चला है। हमें घबराने की जरूरत नहीं है, लेकिन कोरोना को लेकर जागरूकता बेहद जरूरी है।
देश में कोरोना के मामलों की जानकारी देते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि केरल और महाराष्ट्र दो ऐसे राज्य हैं, जहां अभी 10 हजार से अधिक कोरोना के सक्रिय मामले हैं। देश के 55 फीसद मामले इन दो राज्यों में दर्ज किए गए हैं। देश में इस समय कोरोना के 99,763 सक्रिय मामलों की संख्या है। पिछले 24 घंटे में देश में कोरोना के 9,765 नए मामले सामने आए हैं।
टीकाकरण की जानकारी देते हुए लव अग्रवाल ने बताया कि देश में हम अब तक लोगों को 125 करोड़ से ज्यादा कोविड वैक्सीन की डोज लगा चुके हैं। 84.3 फीसद लोगों को वैक्सीन की पहली डोज और 45.92 फीसद लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज लग चुके हैं।
संयुक्त स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि विश्व में अभी भी कोविड के मामलों में तेजी देखी जा रही है। पिछले एक हफ्ते में दुनिया में 70 फीसद मामले यूरोप से आए हैं। एक हफ्ते में यूरोप में 2.75 लाख कोविड मामले आए और 29,000 से अधिक मृत्यु एक हफ्ते में यूरोप में दर्ज की गई है।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने हाईलेवल बैठक
देश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के दो मामले पाए जाने के बाद हड़कंप मच गया है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने गुरुवार को एयरपोर्ट और बंदरगाहों पर तैनात स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारियों के साथ-साथ अन्य आफि‍सर्स के साथ एक बैठक की। इस बैठक में कोरोना के नए वेरिएंट ‘ओमिक्रोन’ के खतरे और इसकी रोकथाम को लेकर तमाम बिंदुओं पर बातचीत हुई। सनद रहे स्वास्थ्य मंत्रालय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को देश में आने वाले अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों की सख्‍त निगरानी और उनकी कोविड-19 जांच कराए जाने की सलाह देता रहा है।
स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने राज्‍यों को ‘जोखिम की श्रेणी में शुमार’ देशों के संक्रमित अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों के नमूनों की जीनोम सिक्‍वेंसिंग के निदेश दिए हैं। जोखिम वाले देशों के अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों की आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट आने तक उनको हवाई अड्डों पर प्रतीक्षा करने की सलाह दी जा रही है। राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को संक्रमित यात्रियों की जीनोम जांच के लिए नमूनों को संबंधित इंसाकोग प्रयोगशालाओं को तुरंत भेजने के भी निर्देश दिए गए हैं। यही नहीं राज्यों को संक्रमित यात्रियों के संपर्क में आए लोगों का पता लगाने को भी कहा गया है।
अब तक के उठाए गए एहतियाती कदम
अंतर्राष्‍ट्रीय यात्रियों की आरटी-पीसीआर जांच अनिवार्य करने के निर्देश
विदेश से आने वाले संक्रमितों के नमूनों की जीनोम सीक्वेंसिंग कराने का फैसला
जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए राज्‍यों और केंद्र शासित प्रदेशों को तत्काल नमूने भेजने की सलाह
जोखिम वाले मुल्‍कों से आने वालों की कड़ी निगरानी और संपर्कों का पता लगाने के निर्देश
एयरपोर्ट और बंदरगाहों पर अधिकारियों को सख्‍त कोविड जांच का अनुपाल करने के निर्देश
भारत बायोटेक ने ओमिक्रोन पर कोवैक्सीन के प्रभाव को परखने के लिए शोध शुरू किया
पीएम मोदी की बैठक के बाद गृह मंत्रालय ने 31 दिसंबर तक बढ़ाई कोरोना गाइडलाइंस
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *