ओमान की लेखिका जोखा अल्हार्थी को मिला मैन बुकर पुरस्कार

ओमान की लेखिका जोखा अल्हार्थी को उनकी किताब ‘कैलेस्टियल बॉडीज’ के लिए मैन बुकर अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. जोखा अरबी भाषा की पहली लेखिका हैं जिन्हें यह प्रतिष्ठित पुरस्कार प्रदान किया गया है. वह पुरस्कार में मिली 50,000 पाउंड की राशि को ब्रिटेन की अनुवादक मैरीलिन बूथ के साथ साझा करेंगी.
यह कहानी तीन बहनों और एक मरुस्थली देश की है, जो दासता के अपने इतिहास से उबरकर जटिल आधुनिक विश्व के साथ तालमेल करने की जद्दोजहद करता है.
पैनल की अगुवा एवं इतिहासकार बिटैनी हग्स ने मंगलवार को कहा कि जिस उपन्यास ने यह पुरस्कार जीता है, उसने दिल और दिमाग दोनों जीत लिया है. ‘कैलेस्टियल बॉडीज’ ने यूरोप और दक्षिण अमेरिका की पांच प्रविष्ठियों को पछाड़कर यह पुरस्कार हासिल किया है.
बता दें कि ‘सेलेस्टियल बॉडीज़’ ने यूरोप और दक्षिण अमेरिका की पांच एंट्रीज़ को पछाड़ कर ये पुरस्कार हासिल किया है.
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »