Duti Chand के लिए ओडिशा सरकार ने की 1.5 करोड़ रुपये के नकद पुरस्कार की घोषणा

18वें एशियाई खेलों में महिला 100 मीटर दौड़ में रजत पदक जीतने वाली धाविका Duti Chand को सरकार ने कर दिया मालामाल

जकार्ता। ओडिशा सरकार ने 18वें एशियाई खेलों में महिला 100 मीटर दौड़ में रजत पदक जीतने वाली धाविका Duti Chand के लिए सोमवार को 1.5 करोड़ रुपये के नकद पुरस्कार की घोषणा की। बता दें कि मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने रविवार को दुती को पदक जीतने पर बधाई दी थी।
मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा आज जारी किए गए एक बयान में कहा गया, ‘यह गर्व का विषय है कि ओडिशा की एक खिलाड़ी ने देश के लिए गौरव अर्जित किया है।’ बयान में कहा गया, ‘Duti Chand के जज्बे और दृढ़ निश्चय की सराहना करते हुए मुख्यमंत्री ने उनके लिए डेढ़ करोड़ रुपये के नकद पुरस्कार की घोषणा की है।’

इससे पहले 1998 के एशियाई खेलों में ओडिशा की धाविका रचिता पांडा मिस्त्री ने कांस्य पदक जीता था। केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धमेंद्र प्रधान सहित राज्य के कई अन्य गणमान्य लोगों ने भी दुती चंद को बधाई दी।

प्रधान ने कल ट्विटर पर लिखा था, ‘भारत की बेटियों ने आज शानदार प्रदर्शन किया। महिलाओं की 100 मीटर दौड़ में रजत जीतने पर Duti Chand को तहे दिल से बधाई। यह और भी खास है क्योंकि यह 1986 के बाद से एशियाई खेलों में किसी भारतीय महिला का 100 मीटर दौड़ में पहला पदक है।’

आंखें बंद कर दौड़ती रहीं थीं दुती चंद

भारतीय एथलीट दुती चंद ने 18वें एशियन गेम्स में रविवार को सिल्वर मेडल जीतकर इतिहास रच दिया। उन्होंने महिलाओं की 100 मीटर रेस में 20 साल साल बाद भारत को पहला मेडल दिलाया। 22 वर्षीय दुती ने फाइनल में 11.32 सेकेंड का समय लेकर दूसरा स्थान हासिल किया। बहरीन की इडिडोंग ओडियोंग ने 11.30 सेकेंड के समय के साथ गोल्ड मेडल अपने नाम किया। दुती और गोल्ड जीतने वाली ओडियोंग के बीच महज 0.02 सेकंड के समय का अंतर था। इससे पहले भारत के लिए इस स्पर्धा में रचिता मिस्त्री ने 1998 में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। सिल्वर मेडल जीतने के बाद दुती चंद ने खुलासा किया कि वह स्पर्धा के दौरान आंखें बंद कर दौड़ी थीं। दुती ने कहा, ‘सेमीफाइनल में शुरुआती 20 मिनट में मैंने ज्यादा पुश नहीं किया। कोच ने बताया कि मुझे अच्छी शुरुआत करनी होगी। इसीलिए फाइनल में मैं शुरुआती 40 मीटर तक तेजी से दौड़ी। मैं अपनी आंखें बंद कर दौड़ रही थी चाहे मेडल मिलता या नहीं। मैं अपनी टाइमिंग बेहतर करना चाहती थी।’

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »