KD हॉस्पिटल में कोरोना से स्वस्थ होने वालों की संख्या 108 हुई

मथुरा। दुनिया भर में वृद्धों के लिए कोरोना संक्रमण को काफी घातक माना जा रहा है लेकिन अपनी बेहतरीन स्वास्थ्य सुविधाओं और सुयोग्य चिकित्सकों के प्रयासों से KD मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर लगातार उम्रदराज लोगों के चेहरे पर मुस्कान लौटा रहा है। शनिवार शाम तक KD हॉस्पिटल में स्वस्थ होने वालों की संख्या 108 हो चुकी है जिनमें 27 लोग 60 से 85 साल की उम्र के हैं। यहां लगातार कोरोना संक्रमितों के स्वस्थ होने का सिलसिला जारी है। स्वस्थ होने वालों में हर आयु वर्ग का कोरोना संक्रमित शामिल है।

आर. के. एजुकेशन हब के अध्यक्ष डाॅ. रामकिशोर अग्रवाल, उपाध्यक्ष पंकज अग्रवाल, चिकित्सा अधीक्षक डाॅ. राजेन्द्र कुमार, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी अरुण अग्रवाल कोरोना संक्रमण के खिलाफ तन-मन से चिकित्सा सेवा करने वाले डाॅक्टर्स, नर्सेज तथा अन्य कर्मचारियों की प्रशंसा करते हुए सभी का हौसला बढ़ा रहे हैं। KD मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर के डीन डाॅ. रामकुमार अशोका का कहना है कि यहां कोरोना संक्रमितों की देखभाल एक टीम के रूप में की जाती है। यहां आने पर मरीज को सबसे पहले वेलकम किट प्रदान की जाती है। इस किट में टूथपेस्ट, साबुन, तेल, कंघा, पावडर तथा तौलिया होता है।

डाॅ. अशोका का कहना है कि यहां मरीज की प्रारम्भिक जांचें जैसे ब्लडप्रेशर, शरीर का तापमान, ऑक्सीजन, शुगर, एक्सरे के साथ ही खून की सभी सामान्य जांच करने के बाद दो घण्टे के अंदर उसकी रिपोर्ट आ जाती है। मरीज की दशा और स्थिति अनुसार उसे आईसीयू या आइसोलेशन में बेड तक पहुंचा दिया जाता है। वहां तैनात नर्स पुनः उसकी जांच कर सम्बिन्धित चिकित्सक को सूचित करती है तथा शीघ्रता के साथ मरीज का इलाज शुरू कर दिया जाता है। यहां प्रत्येक मरीज को एक हेल्पलाइन नम्बर दिया जाता है जिस पर वह 24 घण्टे में कभी भी सूचना देकर अपनी बीमारी अथवा व्यक्तिगत परेशानी बताकर तुरंत समाधान प्राप्त कर सकता है।

कोविड सेण्टर सेण्टर इंचार्ज डॉ. गौरव सिंह का कहना है कि कोरोना वायरस का सबसे अधिक असर बुजुर्गों में देखा जा रहा है। इसकी मुख्य वजह इनका इम्‍यून सिस्‍टम मजबूत नहीं होना होता है। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन भी कोरोना संक्रमण को उम्रदराज लोगों के लिए काफी घातक मान रहा है। डॉ. सिंह का कहना है कि KD मेडिकल कॉलेज-हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर में लगातार कोरोना संक्रमितों को नई जिन्दगी मिल रही है, इनमें वे वृद्ध भी शामिल हैं जिनके लिए इसे सबसे घातक माना जा रहा है। अब तक KD हॉस्पिटल से 27 वृद्ध पूर्ण स्वस्थ होकर अपने घरों को लौट चुके हैं। KD हॉस्पिटल से स्वस्थ होकर अपने घर लौट रहे लोग भी KD हॉस्पिटल की आधुनिकतम स्वास्थ्य सुविधाओं तथा डॉक्टर्स, नर्सेज और पैरामेडिकल स्टाफ के सेवाभाव को कोरोना संक्रमण पर विजय हासिल करने की मुख्य वजह मान रहे हैं। कोरोना संक्रमितों पर दिन-रात नजर रखने वालों में मेडिसिन विशेषज्ञ डॉ. सौरभ सिंघल, निश्चेतना विशेषज्ञ डॉ. एपी भल्ला, डॉ. प्रदीप कुमार पाढ़ी, डॉ. गगनदीप कौर, डॉ. शुभम द्विवेदी, नर्सेज तथा पैरामेडिकल स्टाफ शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *