जम्मू-कश्मीर में घुसपैठियों के खात्मे को NSG commando की हाउस इंटरवेंशन टीम भेजी

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के खिलाफ NSG commando की तैनाती की है, गृह मंत्रालय को उम्मीद है कि एनएसजी की तैनाती से वहां आतंकी घटनाओं पर लगाम लगेगा। साथ ही NSG को भी लाइव मुठभेड़ों से निपटने का अनुभव प्राप्त होगा। वहां कई एजेंसियां होने की वजह से सेना को कुछ एतराज़ था लेकिन पिछले ही महीने गृह मंत्रालय ने इनकी तैनाती को हरी झंडी दे दी थी। फिलहाल NSG बीएसएफ़ के साथ मिलकर उनके हुमहमा कैंप में ट्रेनिंग कर रही है।

जम्मू में फिलहाल NSG की हिट हाउस इंटरवेंशन की टीम भेजी गई है। हाउस इंटरवेंशन टीम हॉस्टेज परिस्थिति से निपटने में बहुत कारगर साबित होती है। अभी तक ऐसी स्थिति से निपटने के लिए आर्मी और सीआरपीएफ अपना अभियान चलाती है। ऑपरेशन के दौरान वह फायर पावर का ज्यादा इस्तेमाल करती है, जिसके कारण सुरक्षाकर्मी या आम नागरिकों को ज्यादा क्षति पहुंचती है। गृह मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक 2017 सुरक्षाबल के 82 लोग मारे गए थे और इस साल अब तक करीब 34 लोग मारे जा चुके हैं। वहीं आम लोगों की बात करें तो 2017 में 68 लोग मारे गए थे और इस साल अभी तक 38 लोग मारे गए हैं।

बीते कई समय से इस पर बहस चल रही थी कि क्या एनएसजी को कश्मीर घाटी में तैनात किया जाए या नहीं लेकिन आखिरकार सरकार ने इस पर मुहर लगा दी है। अब आतंकवादियों के खिलाफ बड़े ऑपरेशन में एनएसजी को शामिल कर लिया गया है।

गृह मंत्रालय का मानना है कि हाउस इंटरवेंशन की टीम के जरिये ऐसे ऑपरेशन को अंजाम दिया जाएगा, जिससे मरने वालों का आंकड़ा कम किया जाएगा, क्योंकि ये सभी काफी ट्रेंड स्नाइपर्स होते हैं। वहीं दूसरी बात यह है कि एनएसजी की टीम अभी तक लाइव ऑपरेशन नहीं करती थी, वह सिर्फ ट्रेनिंग करती थी। अब वह एनकाउंटर में भी शामिल होंगी. गौरतलब है कि पिछले काफी महीनों से जम्मू में एनएसजी की तैनाती की बात की जा रही थी।

एनएसजी कमांडो की बीएसएफ के साथ ट्रेनिंग भी पहले से ही जारी है। ऐसे में अब एनएसजी को भी मुठभेड़ों का अनुभव मिलेगा। एनएसजी को अब आतंकवादियों, घुसपैठियों के खिलाफ एनकाउंटर में शामिल किया जाएगा। केंद्र सरकार को उम्मीद है कि NSG commando की वजह से वहां ऑपरेशन्स में मरने वाले आम नागरिकों की तादाद में कमी आएगी।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »