अब WhatsApp call से दिया ट्रिपल तलाक

24 साल की एक महिला ने अपने पति के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई, पति वे WhatsApp call पर उसे ट्रिपल तलाक दे दिया

हैदराबाद। संसद में ट्रिपल तलाक पर अभी भी सत्‍तापक्ष और विपक्ष एकदूसरे पर प्राविधानों को लेकर बहस जारी है मगर मुस्‍लिम महिलाऐं इससे रोजाना दोचार हो रही हैं। हालांकि मामला नवंबर महीने का है परंतु अब इसे सेंट्रल क्राइम स्टेशन पुलिस ने आईपीसी और दहेज निषेध अधिनियम के तहत शरीफ, उसके भाई मोहम्मद मुर्तुजा शरीफ और उसके माता-पिता के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

दरअसल 24 साल की एक महिला ने अपने पति के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है जिसमें उसने कहा है कि पति वे WhatsApp call पर उसे ट्रिपल तलाक दे दिया। उसके खिलाफ दहेज प्रताड़ना का मामला भी दर्ज किया गया। महिला ने यह भी दावा किया कि यह प्रताड़ना तब बढ़ती गई जब उसने एक बेटी को जन्म दिया।
22 नवंबर को, यूसुफगुडा से ग्रेजुएट सुमाया बानू ने पति मोहम्मद मुज़मिल शरीफ के खिलाफ दहेज प्रताड़ना का आरोप लगाया था जो कि टोलीचौकी में एक हाई स्कूल का प्रिंसिपल है। सेंट्रल क्राइम स्टेशन पुलिस ने आईपीसी और दहेज निषेध अधिनियम के तहत शरीफ, उसके भाई मोहम्मद मुर्तुजा शरीफ और उसके माता-पिता के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

महिला के मुताबिक उसने तब शिकायत दर्ज की जब उसके ससुर उसके मायके आए जहां वह 10 महीने की बच्ची के साथ रह रही थी। उन्होंने कहा कि मैं या तो ‘खुला(शादी तोड़ने का महिला का अधिकार)’ दूं या फिर ‘तलाक’ लें।

उसने यह भी आरोप लगाया कि जब वह प्रेगनेंट थी तो पति ने उसे लात भी मारी थी।

जब शरीफ को यह पता चला कि उसने पुलिस में शिकायत की है तो उसने 28 नवंबर को फोन पर ट्रिपल तलाक दे दिया।

महिला के मुताबिक उसने मुझे व्हाट्सऐप कॉल किया और मुझे ट्रिपल तलाक दे दिया। मैंने दूसरे फोन पर बातचीत रिकॉर्ड कर ली थी और 1 दिसंबर को बंजारा हिल्स पुलिस में शिकायत की। मामला सीसीएस पुलिस की तरफ बढ़ाया गया जहां मैंने पहले ही केस रजिस्टर्ड किया था।

दोनों की शादी 6 जनवरी, 2017 को हुई थी। शिकायत के अनुसार, पिता ने 10 लाख कैश, 10 तोला सोना, 2.5 लाख के घरेलू सामान दिए और निकाह में 6.5 लाख रुपए खर्च किए। उसने कहा, ‘जब जुलाई 2017 में मैने कंसीव किया को मेरे ससुराल वालों ने अतिरिक्त दहेज के लिए प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। जब मेरा तीन महीने का गर्भ था तब पति ने मेरे पेट पर तीन बार लात मारी और मुझे अस्पताल में भर्ती होना पड़ा। उसके बाद में अपने माता-पिता के पास रह रही हूं। मैंने फरवरी में एक बेटी को जन्म दिया और उन्होंने लड़की के जन्म के बाद मेरे साथ अमानवीय व्यवहार शुरू कर दिया। मुझे ‘खुला’ के लिए मजबूर करने लगे ताकि वह फिर से किसी और से निकाह कर सकें।’

सीसीएस इंस्पेक्टर जे मंजुला ने कहा कि महिला द्वार दर्ज की गई ट्रिपल तलाक की शिकायत के बारे में कोर्ट को जानकारी दे दी है। हम जांच कर रहे हैं और अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »