गहलोत सरकार पर अब उन्‍हीं की पार्टी के विधायक ने लगाए फोन टैपिंग के आरोप

जयपुर। राजस्थान में सियासी घमासान के बीच अब अशोक गहलोत सरकार पर फोन टैपिंग के आरोप लगे हैं। ये आरोप किसी और ने नहीं बल्कि कांग्रेस पार्टी के विधायक वेद प्रकाश सोलंकी की ओर से लगाए गए। जिसके बाद बीजेपी ने इस मुद्दे को उठाते हुए प्रदेश सरकार पर हमले तेज कर दिए हैं।
इसी कड़ी में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने पूरे मामले में सीएम गहलोत से पूरे मामले में स्पष्टीकरण मांगा है। वहीं बीजेपी सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौर ने पूरे मामले को लेकर गहलोत के साथ-साथ कांग्रेस नेतृत्व पर निशाना साधा है।
शेखावत बोले, कांग्रेस सरकार और उनके मुखिया को इसे स्पष्ट करना चाहिए
बीजेपी के दिग्गज नेता और केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि मुझे पता चला है कि कांग्रेस के कुछ विधायकों ने सीएम से शिकायत की है कि उनके फोन अवैध रूप से टैप किए जा रहे हैं। मुझे लगता है कि कांग्रेस सरकार और उनके मुखिया को इसे स्पष्ट करना चाहिए। केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा कि वर्तमान कांग्रेस सरकार अवैध रूप से जनप्रतिनिधियों के फोन टैप करती है और राजनीतिक हथियार के रूप में इसका इस्तेमाल करती है, यह आरोप कई बार लगाया गया है। पिछले साल सीएम ने कहा था कि राजस्थान में ऐसा नहीं होता लेकिन उनके मंत्री ने विधानसभा में स्वीकार किया कि कानूनी तौर पर फोन टैप किए गए थे।
राज्यवर्धन सिंह राठौर का गहलोत से लेकर सोनिया-राहुल तक निशाना
बीजेपी सांसद राज्यवर्धन सिंह राठौर ने कहा कि ढाई साल से राजस्थान कांग्रेस में पद, पावर और पैसे को लेकर आंतरिक घमासान है। कभी वे महीनों तक होटलों में रुकते हैं, तो कभी फोन टैपिंग के लिए सरकारी मशीनरी का इस्तेमाल करते हैं। सचिन पायलट के नाराजगी पर राज्यवर्धन सिंह राठौर ने कहा कि जब आपके पास केंद्र में कमजोर नेतृत्व होता है, तो क्षेत्रीय नेता वही करते हैं जो वे चाहते हैं। चाहे आप जो भी संदेश भेजें, चाहे वह राजस्थान में हो या पंजाब में। उन्होंने आगे कहा कि बिना विजन के नेता पार्टी छोड़ देंगे और विजन के साथ दूसरी पार्टी में शामिल होंगे। हमारी पार्टी उन सभी के लिए खुली है जो भारत को प्राथमिकता देते हैं और ‘इंडिया फर्स्ट’ कहते हुए अपनी विचारधारा को बदलते हैं।
राजस्थान बीजेपी प्रभारी अरुण सिंह ने कहा, सीएम गहलोत के नेतृत्व में प्रदेश में जासूसी की साजिश चल रही
केवल गजेंद्र सिंह शेखावत ने ही नहीं बीजेपी के और भी दिग्गज नेताओं ने इस मुद्दे पर तीखी प्रतिक्रिया दी है। राजस्थान बीजेपी प्रभारी अरुण सिंह ने कहा कि सीएम गहलोत के नेतृत्व में प्रदेश में जासूसी की साजिश चल रही है। ऐसा पहले भी हुआ था और उन्होंने विधानसभा में स्वीकार किया था कि वास्तव में फोन टैपिंग हुई थी। कांग्रेस में घमासान की वजह से राजस्थान बेहद बुरे दौर से गुजर रहा है।
सतीश पूनिया बोले, हो सकते हैं प्रदेश में मध्यावधि चुनाव
राजस्थान बीजेपी अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया ने कहा कि फोन टैपिंग को लेकर कांग्रेस विधायक का बयान खुद स्थितियां बता रहा है। इस बयान के सामने आने के बाद एक बार फिर पिछले साल जैसी स्थितियां उत्पन्न होती दिखाई दे रही, जब सरकार को खुद उपमुख्यमंत्री और पीसीसी चीफ सचिन पायलट को बर्खास्त करना पड़ा था और सरकार बाड़े बंदी में चली गई थी। पूनिया ने कहा कि राज्य सरकार फोन टैपिंग और जासूसी कर रही है, तो मेरा प्रश्न मुख्यमंत्री से है कि वो विधायक कौन हैं, जिनके फोन टैप किए जा रहे हैं। इस बात को उजागर करें। किसी भी लोकतांत्रिक प्रदेश में इस तरह की कवायद होती है तो उसके सीधे-सीधे दोषी मुख्यमंत्री और गृह मंत्री होते हैं, उनको आज नहीं तो कल जनता की अदालत में जवाब देना पड़ेगा। उन्होंने ये भी कहा कि पार्टी की अंतर्कलह साफ तौर पर मध्यावधि चुनाव की ओर इशारा कर रहे हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *