अब साल के अंत में आमने-सामने मिलकर मीटिंग करेंगे क्वॉड देशों के नेता

वॉशिंगटन। क्वॉड देशों की पहली टॉप लेवल बैठक के बाद अब अमेरिका, जापान, ऑस्ट्रेलिया और भारत इस साल एक बार फिर मिलेंगे और इस बार यह बैठक ऑनलाइन नहीं, ऑफलाइन होगी। अमेरिकी नेशनल सिक्योरिटी एडवाइजर जेक सलीवन ने व्‍हाइट हाउस में एक प्रेस ब्रीफिंग के दौरान इस बात की जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि शुक्रवार को हुई बैठक में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन, जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सूगा और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन से मिलने वाली चुनौतियों पर भी चर्चा की।
‘टेक्नोलॉजी पर करेंगे काम’
सलीवन ने बताया कि चारों नेता इस बात पर सहमत हुए हैं कि साल के आखिर तक वे मुलाकात करेंगे और 5जी, आर्टिफिशल इंटेलिजेंस और साइबर जैसी टेक्नोलॉजी के लिए वर्किंग ग्रुप को लॉन्च किया। जब तक सभी नेता मिलेंगे, तब तक ये ग्रुप भी नतीजे देने लगेंगे। उन्होंने बताया कि क्वॉड इंडो-पैसिफिक के लिए अहम है और इस समिट से क्षेत्र में कूटनीति का व्यापक विस्तार हुआ है।
सलीवन ने कहा कि भारतीय उत्पादन, अमेरिकी तकनीक, जापानी और अमेरिकी फाइनैंसिंग और ऑस्ट्रेलिया की लॉजिस्टिक्स क्षमता की मदद से कोरोना वैक्सीन की 1 अरब खुराकें ASEAN, इंडो-पैसिफिक में अगले साल के अंत तक डिलिवर की जा सकेंगी।
हिंद-प्रशांत के लिए प्रतिबद्ध
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने क्वॉड समूह के पहले शिखर सम्मेलन में कहा, ‘हम अपने लोकतांत्रिक मूल्यों और मुक्त व समावेशी हिंद-प्रशांत क्षेत्र को लेकर अपनी प्रतिबद्धता के लिए एकजुट हैं।’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘आज हमारे एजेंडा में वैक्सीन, क्लाइमेट चेंज और इमर्जिंग टेक्नॉलजी जैसे सेक्टर शामिल हैं, जो ‘क्वॉड’ को वैश्विक भलाई की ताकत बनाते हैं।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *