अब WTC फाइनल में भी जगह बना सकती है टीम इंडिया

नई दिल्‍ली। ब्रिसबेन के गाबा में ऐतिहासिक जीत ने भारत को ना केवल ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीत दिलाई, बल्कि टीम आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप WTC तालिका में शीर्ष पर भी पहुंच गई। इससे जून में पहली बार होने वाले डब्ल्यूटीसी फाइनल में जगह बनाने की उसकी संभावना भी काफी बढ़ गई हैं।
अभी के समीकरण पर नजर डालें तो यह भारत, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के दावेदार होने के बारे में लग रहा है। इंग्लैंड के पास भी मौका है।
ICC ने बदला था नियम
मौजूदा कैलेंडर में कोरोना वायरस महामारी के चलते काफी नुकसान हुआ और कुछ क्रिकेट सीरीज को स्थगित भी करना पड़ा। इसी के कारण आईसीसी को पिछले नवंबर में डब्ल्यूटीसी अंक प्रणाली को फिर से तैयार करने के लिए मजबूर होना पड़ा। अब टीमों को किसी सीरीज में कुल अंकों में से जीते गए अंकों के प्रतिशत के अनुसार स्थान दिया गया है।
अब ऐसे बंटते हैं अंक
किसी भी टेस्ट सीरीज में कुल अंकों की संख्या 120 है। उदाहरण के लिए भारत-ऑस्ट्रेलिया सीरीज में एक जीत में 30 अंक, एक टाई से 15 और ड्रॉ के 10 अंक होते हैं, जिसके आधार पर प्रतिशत की गणना की जाती है। यदि टीमों को अंक प्रतिशत के आधार पर रखा जाता है तो रन-प्रति-विकेट अनुपात की गणना की जाएगी।
भारत (71.7%, 430 अंक)
शेष मैच: 4- इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू टेस्ट सीरीज
भारत को अब इंग्लैंड के खिलाफ 4 मैचों की टेस्ट सीरीज खेलनी है। उसे संभावित 120 में से 80 और अंक चाहिए जिससे वह न्यूजीलैंड से आगे रह सके। भारत को डब्ल्यूटीसी फाइनल में अपनी जगह पक्की करने के लिए इंग्लैंड को 2 मैचों के अंतर से हराना होगा। यदि भारत 1 टेस्ट हार जाता है, तो उन्हें शेष 3 जीतने की जरूरत होगी। जैसे- भारत को 4-0, 3-1, 3-0 या 2-0 से सीरीज को जीतना होगा। यदि भारत 0-3 या 0-4 से हार जाता है, तो फाइनल में नहीं पहुंच पाएगा।
न्यूजीलैंड (70%, 420 अंक)
शेष मैच: कोई नहीं
न्यूजीलैंड की बांग्लादेश के खिलाफ सीरीज की पुष्टि नहीं हुई थी, इसलिए उनके संभावित 600 में से 420 अंक पर बने रहने की संभावना है। हालांकि यह दूसरी टीमों के हार-जीत के परिणामों पर निर्भर करेगा कि वह फाइनल में जगह बनाएगा या नहीं। अगर साउथ अफ्रीका ने ऑस्ट्रेलिया को 3-0 या 2-0 के अंतर से हराया और इंग्लैंड ने अपने बाकी के सभी मैच जीते, तो न्यूजीलैंड बाहर हो जाएगा।
ऑस्ट्रेलिया (69.2%, 332 अंक)
शेष मैच: साउथ अफ्रीका में 3 टेस्ट
ऑस्ट्रेलिया को एमसीजी टेस्ट में धीमे ओवर रेट के कारण 4 अंकों का नुकसान उठाना पड़ा। अब उसे साउथ अफ्रीका के खिलाफ कम से कम 89 अंकों की जरूरत है, हालांकि इस सीरीज की अभी तक पुष्टि नहीं हुई है। ऑस्ट्रेलिया को उस सीरीज में 3 में से कम से कम 2 मैच जीतने होंगे और किसी भी हार बचना होगा। अगर साउथ अफ्रीकी टीम अपनी घरेलू सीरीज जीत जाता है तो ऑस्ट्रेलिया दौड़ से बाहर हो जाएगा।
इंग्लैंड (65.2%, 352 अंक)
शेष मैच: श्रीलंका में 1 टेस्ट, भारत में 4 टेस्ट मैचों की सीरीज
इंग्लैंड के पास भी मौका है। उसने गॉल टेस्ट में जो रूट की कप्तानी पारी की बदौलत श्रीलंका को हराया। अब उसे भारत को 3-0 या 4-0 से हराना होगा, यदि अपनी उम्मीदों को जीवंत रखना है। भारत के खिलाफ 2-2 से ड्रा सीरीज भी उसके लिए पर्याप्त नहीं होगी।
दक्षिण अफ्रीका (40%) के पास एक मौका है कि यदि वह ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान के खिलाफ दोनों सीरीज में क्लीन स्वीप करता है। पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका और वेस्ट इंडीज दौड़ से बाहर हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *