अब राम की शरण में राहुल, कामतानाथ मंदिर के दर्शन कर की दौरे की शुरूआत

चित्रकूट (सतना)। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के गुरुवार को मध्यप्रदेश के सतना जिले के चित्रकूट स्थित प्रख्यात कामतानाथ मंदिर में दर्शन के साथ ही प्रदेश का दो दिवसीय दौरा शुरू हो गया।
गांधी अपने इस दौरे के दौरान चित्रकूट, सतना और रीवा में रोड शो और जनसभा करेंगे। गांधी शाम को कांग्रेस की संकल्प यात्रा के तहत बस से सतना से रीवा के लिए रवाना होंगे। वे रात्रि विश्राम रीवा में ही करेंगे। उनका दौरा शुक्रवार को भी जारी रहेगा।
गांधी ने इसके पहले 17 सितंबर को राजधानी भोपाल में करीब 14 किलोमीटर लंबे रोड शो के माध्यम से प्रदेश में चुनावी अभियान का आगाज किया था। इसके बाद उनका आज से शुरू हो रहा विंध्य दौरा राजनीतिक मायनों से अहम माना जा रहा है।
क्यों प्रसिद्ध है चित्रकूट
मंदाकिनी नदी के तट पर स्थित चित्रकूट धाम भारत के सबसे प्राचीन तीर्थस्थलों में से एक है। ऐसी मान्यता है कि प्रभी श्रीराम ने 14 साल के वनवास के दौरान पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ 11 साल का समय चित्रकूट में ही गुजारा था। यहां वर्षभर श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है।
भगवान राम 14 साल के वनवास के दौरान मध्य प्रदेश में जहां-जहां से गुजरे थे, उसे राम वन गमन पथ यात्रा कहा जाता है। इसकी शुरुआत चित्रकूट से भगवान राम ने की थी। चित्रकूट का सबसे महत्वपूर्ण स्थान कामदगिरि पर्वत माना जाता है। कामदगिरी पर्वत पर स्थित कामतानाथ मंदिर का खास धार्मिक महत्व है।
इस स्थान को लेकर यह भी मान्यता है कि राम ने अपने पिता दशरथ के लिए चित्रकूट में ही श्राद्ध किया था। कहा जाता है कि पितृपक्ष में कामदगिरि दर्शन और परिक्रमा से पूर्वजों की शक्तियां व्यक्ति में निहित हो जाती हैं और उसकी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। उल्लेखनीय है कि 24 सितंबर से श्राद्ध पक्ष की शुरुआत हो चुकी है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »