अब मिसाइल डिफेंस सिस्टम से लैस विमानों में उड़ेंगे राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री

नई दिल्‍ली। देश के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के विमान में अब अत्याधुनिक मिसाइल डिफेंस सिस्टम्स लगें होंगे और इन्हें एयर इंडिया के पायलट नहीं एयरफोर्स के पायलट उड़ाएंगे।
सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया भारतीय वायुसेना (आईएएफ) के पायलटों को नए बोइंग 777 विमानों को उड़ाने का प्रशिक्षण भी दे रही है। पीएम नरेंद्र मोदी समेत देश की टॉप लीडरशिप जुलाई 2020 से बी777 विमान से ही यात्रा करेगी।
अमेरिकी प्लांट में तैयार हो रहे अमेरिकी बी777 विमान लार्ज एयरक्राफ्ट इन्फ्रारेड काउंटर मेजर्स (एलएआईआरसीएम) और सेल्फ प्रोटेक्शन सूइट्स (एसपीएस) से लैस होंगे। ये जुलाई 2020 में भारत आ जाएंगे। ऐसा पहली बार होगा जब इन टॉप डिग्निटरीज को लाने-ले जाने वाले ‘एयर इंडिया वन’ के पायलट्स एयर इंडिया के नहीं होंगे। वैसे इन विमानों को पायलट्स तो बदल रहे हैं लेकिन मैंटनेंस टीम एयर इंडिया इंजनियरिंग सर्विसेज लि. (एआईईएसएल) की ही रहेगी। साथ ही विमान के अंदर अभी की तरह एयर इंडिया क्रू ही सर्विस देगा।
अभी बी777 विमानों को उड़ाने का प्रशिक्षण प्राप्त एयर इंडिया पायलट्स वायु सेना के पायलटों को मुंबई के कलीना ट्रेनिंग सेंटर में प्रशिक्षण दे रहे हैं। अधिकारी ने बताया कि बी777 विमानों के लिए वायुसेना के 4-6 पायलट को एयर इंडिया द्वारा प्रशिक्षित किया गया है। वायुसेना के कुछ अन्य पायलटों को भी जल्द प्रशिक्षित किया जाएगा।
एयर इंडिया के एक सीनियर ऑफिसर ने बताया, ‘वायुसेना के पायलट प्रशिक्षित हैं लेकिन वे युद्धक विमान या वायुसेना के कुछ खास विमान उड़ाने के ही विशेषज्ञ होते हैं। नए बोइंग 777 विमान जिनका इस्तेमाल वीवीआईपीज की यात्रा के लिए होगा, कमर्शियल किस्म के एयरक्राफ्ट हैं इसलिए भारतीय वायुसेना के पायलटों को कमर्शियल एयक्राफ्ट की ट्रेनिंग लेनी पड़ रही है।’
अभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू के लिए एयर इंडिया के पास बोइंग 747 विमान है। इस विमान को ‘एयर इंडिया वन’ नाम दिया गया है और इसे एयर इंडिया के पायलट उड़ाते हैं। जब यह बी747 विमान गणमान्य व्यक्तियों के लिए उड़ान नहीं भरते तो एयर इंडिया इनका इस्तेमाल कमर्शियल ऑपरेशन के लिए करती है लेकिन जुलाई 2020 से इन वीवीआईपीज के लिए दो ब्रैंड न्यू बोइंग 777 का इस्तेमाल होगा। नए विमानों का उपयोग केवल गणमान्य व्यक्तियों की यात्रा के लिए किया जाएगा।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *