अब पश्‍चिमी उत्तर प्रदेश के करोड़पति थानेदार योगी सरकार के रडार पर

लखनऊ। उत्तर प्रदेश और विशेष तौर पर पश्‍चिमी उत्तर प्रदेश में अब करोड़पति थानेदार योगी सरकार के रडार पर आ गए हैं। शुरुआती तौर पर छह ऐसे दरोगा और इंस्पेक्टरों की संपत्ति जांच के घेरे में है, जिन्होंने चार-पांच साल की थानेदारी में पेट्रोल पंप, आलीशान कोठियां और कीमती जमीन खरीद लीं। पत्नी के अलावा रिश्तेदारों के नाम पर भी संपत्तियां बना ली हैं।

हस्तिनापुर (मेरठ) के निलंबित थानाध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह का आलीशान फार्म हाउस और शास्त्रीनगर जैसे पॉश इलाके में फ्लैट है। इसका खुलासा होने के बाद जिले के ऐसे थानेदारों की भी तलाश शुरू हो गई है, जिन्होंने आय से अधिक संपत्ति अर्जित की है। बताया जा रहा है कि थानेदार बनने से पहले दरोगा और इंस्पेक्टर की हालत सामान्य थी लेकिन थाना प्रभारी बनने के बाद उन्होंने बेशुमार पैसा कमाया। अब इन सब की संपत्ति का ब्योरा खंगालना शुरू कर दिया गया है।

पुलिस के ही सूत्र बताते हैं कि एक इंस्पेक्टर के दो पेट्रोल पंप भी चल रहे हैं जबकि एक थाना प्रभारी की एनएच-58 पर पॉश कॉलोनी में आलीशान कोठी है और उसने हाल ही में दो प्लॉट भी खरीदे हैं, जिनकी कीमत करोड़ों रुपये बताई जा रही है। उक्त दरोगा थाना प्रभारी बनने से पहले बाइक से चलता था और आज उसके पास लग्जरी गाड़ियां हैं। इसके अलावा एक थाना प्रभारी ने हाल ही में उत्तराखंड में काफी महंगी जमीन खरीदी है। थाना प्रभारियों ने अधिकांश वहां पर जमीन खरीदी हैं, जहां आने वाले दिनों में जमीन की कीमत चार-पांच गुना हो सकती है।

पद से हटते ही आका के संरक्षण में दरोगा

सवाल तो पूरे पुलिस महकमे पर उठ रहा है लेकिन सबूतों को खोजा रहा है। कुछ थानाध्यक्ष का तो बाकायदा रिकॉर्ड है।
दरअसल, थाना प्रभारी बनने के कुछ दिनों बाद दरोगा हो या फिर इंस्पेक्टर, इनकी लाइफ स्टाइल ही बदल जाती है। बाइक या फिर सामान्य गाड़ी में चलने वाले दरोगा और इंस्पेक्टर लग्जरी गाड़ी से नीचे नहीं चलते हैं। थाना प्रभारी दरोगा हो या इंस्पेक्टर पुलिसिंग से ज्यादा करोड़पति बनने के सपने संजोने लगता है। शायद यही वजह है कि जो दरोगा थाना प्रभारी पद से हटाया जाता है, वह फिर किसी भी थाना प्रभारी के नीचे काम नहीं करता। फिर किसी सत्ताधारी नेता या अपने आका के संरक्षण में रहता है। वह थाना प्रभारी बनने के लिए हर जोड़तोड़ करता रहता है।

चार्ज लेने को लेकर मारामारी

दरोगा हो या इंस्पेक्टर, थाना प्रभारी का चार्ज लेने को लेकर चार्ज के लिए सबसे अधिक मारामारी पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जिलों में है। जिसके चलते कई बार दरोगा बाजी मार जाते हैं और इंस्पेक्टर पीछे रह जाते हैं। शायद यही वजह है कि कई जनपदों में इंस्पेक्टर से ज्यादा दरोगाओं के पास थाने का चार्ज है। जिन इंस्पेक्टरों को थाने का चार्ज मिलना चाहिए, उन थानों को दरोगा चला रहे हैं लेकिन कोई अधिकारी इस परंपरा को तोड़ने को तैयार नहीं है।

-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *