अब किताब में छपेगी Sanjay Dutt की जीवनी

नई दिल्‍ली। अभिनेता Sanjay Dutt अगले साल अपनी आत्मकथा लाने जा रहे हैं जिसमें उनके जीवन के कुछ अनछुए पहलुओं को बयां किया जाएगा। प्रकाशक कंपनी ‘हार्परकॉलिंस’ इसका प्रकाशन करेगी।

अगले साल 29 जुलाई को Sanjay Dutt के 60वें जन्मदिन पर इसे जारी किया जाएगा। प्रकाशकों ने कहा, इस किताब के साथ, पाठक को उनकी रूह में उतरने का मौका मिलेगा।

आखिरकार, हमें उनकी जवानी, 80 और 90 के दशक में उनका बॉलीवुड सफर, जेल में उनका अनुभव और उनके अस्तित्व की तलाश से जुड़े अनेक किस्सों को जानने का मौका मिलेगा।

हाल ही में संजय दत्त की बायोपिक ‘संजू’ बड़े पर्दे पर रिलीज हुई है, फिल्म में उनका किरदार रणबीर कपूर ने निभाया है। फिल्म अभी तक बॉक्स ऑफिस पर 250 करोड़ रुपये की कमाई कर चुकी है।

संजय दत्त हिन्दी सिनेमा में अपने कार्योे की वजह से जाने जाते हैं। वह एक मशहूर अभिनेता और निर्माता हैं। लोग उन्हें प्यार से संजू बाबा, डेडली दत्त, मुन्ना भाई भी कहकर पुकारते हैं। वे पालिटिक्स में भी कुछ समय के लिए अपना हाथ आजमा चुके हैं लेकिन 1993 में हुए मुंबई बम ब्लास्ट की वजह से वे खासे चर्चा में रहे हैं। उन पर आरोप है कि उस दौरान उन्होंने अपनी आत्मरक्षा के लिए गैर कानूनी तरीके से अपने पास हथियार रखे। उन्होंने लगभग हर शैली की फिल्मों में काम किया है चाहे वह एक्शन फिल्म हो, या काॅमेडी फिल्म हो या रोमांस हो। संजय दत्त के ‘चलने’ के अंदाज के आज भी लाखों दीवाने हैं।

पृष्ठभूमि-
संजय दत्त का जन्म मशहूर फिल्म एक्टर्स सुनील दत्त और नरगिस के घर हुआ था। उनके पिता सुनील दत्त और उनकी मां नरगिस ने हिन्दी फिल्म इंडस्ट्रªी में कई सुपरहिट फिल्में दी हैं।

शादी-
उनकी पहली शादी रिचा शर्मा से हुई थी लेकिन ब्रेन ट्यूमर होने की वजह से 1996 में उनका देहांत हो गया। इस शादी से उनकी एक लड़की हुई जिसका नाम त्रिशाला है और वह अपने ग्रैंड पैरेंट्स के साथ यू.एस. में रह रही है। इसके बाद संजय ने रिया पिल्लई से शादी रचाई लेकिन उनसे उनका तलाक हो गया। फिर 2008 में गोवा में संजय ने मान्यता से शादी कर ली और 21 अक्टूबर 2010 को वे जुड़वा बच्चों के पिता बन गए। लड़के का नाम शहरान और लड़की का नाम इकरा है।

करियर-
Sanjay Dutt का करियर बहुत ही उतार-चढ़ाव से भरा हुआ रहा है। 1993 में हुए मुंबई बम ब्लास्ट के कारण उन्हें कई बार जेल के चक्कर काटने पड़े। इस वजह से उनको अपने फिल्मी करियर में भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। बाल कलाकार के रूप में संजय पहली बार फिल्म ‘रेशमा और शेरा’ में दिखाई दिए लेकिन मुख्य अभिनेता के तौर पर उनकी पहली फिल्म ‘राॅकी’ थी जो कि उस समय की सुपरहिट फिल्म रही। इसके बाद उन्होंने कई सुपरहिट फिल्में दीं और लगभग हर अच्छे अभिनेता के साथ काम किया लेकिन फिल्म ‘खलनायक’ में निभाया गया उनका ‘बल्लू’ का किरदार आज भी सभी के ज़ेहन में ताजा है। फिल्म ‘वास्तव’ में Sanjay Dutt के अभिनय को काफी सराहा गया और इसके लिए उन्हें बेस्ट एक्टर का फिल्मफेयर अवार्ड भी मिला।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »