कनिका के घर नोटिस चस्‍पा, बयान दर्ज कराने के लिए जाना होगा थाने

लखनऊ। कोरोना वायरस की चपेट से निकलने और हॉस्पिटल से ठीक होकर लौटने के बाद भी बॉलिवुड की फेमस सिंगर कनिका कपूर की परेशानियां खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं। लखनऊ में पुलिस कनिका के घर पर पहुंची है। पुलिस ने कनिका को उनके घर पहुंचकर उनके खिलाफ दर्ज हुई लापरवाही की एफआईआर से संबंधित नोटिस थमा दिया है।
बताया जा रहा है कि यह नोटिस कनिका के घर के बाहर पुलिस अधिकारियों ने चस्पा कर दिया है जिसमें लिखा है कि उन्हें इस केस के लिए अपना बयान दर्ज कराने के लिए पुलिस थाने में उपस्थित होना होगा। बता दें कि 30 मार्च को लखनऊ के सरोजनी नगर पुलिस थाने में कनिका कपूर के ऊपर अपनी ट्रैवल हिस्ट्री छिपाने, लपारवाही बरतने और कोरोना पॉजिटिव होने के बावजूद सार्वजनिक जगहों पर लोगों से मिलने के लिए मामला दर्ज किया गया था। नोटिस मिलने के बाद कनिका ने कहा है कि वह इस केस और संबंधित जांच में पुलिस के साथ पूरी तरह सहयोग करेंगी।
कनिका ने कहा, स्क्रीनिंग हुई लेकिन क्वारंटीन में जाने को नहीं कहा
बता दें कि इस दिन पहले ही कनिका ने कनिका कपूर ने चुप्पी तोड़ते हुए एक लंबा-चौड़ा ट्वीट किया था। इसमें कनिका ने लिखा था कि मुंबई एयरपोर्ट पर उनकी स्क्रीनिंग हुई थी और वह स्वस्थ थीं तब क्वारंटीन में जाने को लेकर एडवायजरी नहीं थी। कनिका कपूर ने रविवार को अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘मुझे पता है कि मेरे बारें में कई कहानियां बनाई गई हैं। कुछ तो इस वजह से ज्यादा बढ़ी क्योंकि मैं अब तक चुप रही। मैं इसलिए चुप नहीं थी क्योंकि मैं गलत थी, बल्कि मुझे पता था लोगों को गलत जानकारी दी गई। मैं बस इंतजार कर रही थी कि लोग खुद सच को समझें। मैं अपने परिवार, दोस्त और सपोर्ट करने वालों का धन्यवाद करती हूं, जिन्होंने ऐसे वक्त में मुझे समझा। मैं उम्मीद और प्रार्थना करती हूं कि आप सभी इस टाइम में सेफ होंगे।’
क्वारंटीन को लेकर नहीं थी कोई एडवायजरी
कनिका कपूर ने आगे लिखा, ‘अब मैं आपको सही बातें बताना चाहूंगी। मैं इस समय अपने लखनऊ वाले घर पर पैरंट्स के साथ क्वालिटी टाइम बिता रही हूं। यूके, मुंबई और लखनऊ में जितने लोग भी मेरे संपर्क में आए, उनमें कोविड-19 के कोई लक्षण नहीं दिखे बल्कि सभी टेस्ट निगेटिव आए। जब 10 मार्च को मैं लंदन से मुंबई आई थी तब एयरपोर्ट पर जांच भी की गई थी। उस समय क्वारंटीन में रहने के संबंध में कोई एडवायजरी नहीं थी। (18 मार्च को यूके में एडवाइजरी आई थी) जिसमें लिखा था कि खुद को क्वारंटीन करें। मुझे बीमारी का खुद में कोई लक्षण नहीं दिखा इसलिए मैंने खुद को क्वारंटीन नहीं किया। इसके बाद जब मैं 11 मार्च को मुंबई से लखनऊ आई, तब एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग नहीं की गई। तब वहां पर कोई व्यवस्था नहीं थी।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *